कलेक्टर ने 14 अपराधियों को एक साल के लिए किया जिलाबदर

Shashank Baranwal
Published on -
Rewa News:

Rewa News: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लेकर प्रदेश भर में प्रशासन मुस्तैद हो गई है। प्रदेश में निष्पक्ष और सुरक्षित चुनाव के लिए पुलिस द्वारा रोजाना कार्रवाई की जा रही है। प्रदेश में अपराधियों पर प्रशासन लगातार कार्रवाई कर रहा है। इसी कड़ी में 31 अक्टूबर को रीवा जिले की कलेक्टर प्रतिभा पाल ने आपराधिक मामले में संलिप्त 14 अपराधियों को जिला बदर की नोटिस दे दिया है।

एक साल के लिए जिला बदर की नोटिस

रीवा जिले की कलेक्टर के पास कुछ दिनों पहले एसपी विवेक सिंह ने एक रिपोर्ट भेजी थी। जिसमें कुछ अपराधी गुंडागर्दी, अवैध हथियारों का उपयोग, गाली गलौज और मारपीट जैसे मामले में पुलिस की रडार पर थे। जो कि पुलिस के समझाने पर भी ठीक नहीं हो रहे थे। ऐसे अपराधियों को जिला कलेक्टर एवं दंडाधिकारी ने एक साल के लिए जिला बदर कर दिया है।

जिला बदर की नोटिस में ये अपराधी हैं शामिल

जिला कलेक्टर और दंडाधिकारी प्रतिभा सिंह ने शुभम पाण्डेय निवासी पाटन थाना, दीपेंद्र कुमार पाण्डेय निवासी व्यौहरा थाना, सुरेश साकेत निवासी महाजन टोला थाना बिछिया, दिवाकर सिंह निवासी सूती थाना, अमन मिश्रा निवासी गुलाब नगर थाना, चुन्नू प्रजापति उर्फ दुर्गेश निवासी कोरियान मोहल्ला थाना सिटी कोतवाली शामिल हैं। इसी के साथ शैलेष साकेत निवासी महिया थाना, पुष्पेंद्र पटेल निवासी गोरगांव थाना, तौहीद निवासी रायपुर कर्चुलिया, रजनीश विश्वकर्मा उर्फ जग्गा निवासी लक्ष्मणबाग थाना बिछिया, संदीप पटेल निवासी लक्ष्मणपुर थाना बिछिया, सूरज साकेत उर्फ नक्का निवासी नौबस्ता थाना चोरहटा, बेटू उर्फ राजकरण सिंह निवासी तेंदुन थाना बैकुण्पुर और अभिषेक उर्फ प्रीतम कोल निवाली ललपा थाना बिछिया को एक साल के लिए रीवा जिले के बाहर रहने का नोटिस दिया है।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News