15 लाख रिश्वत लेने वाला जूनियर इंजीनियर निकला करोड़ों का आसामी

bribe

रीवा। मध्य प्रदेश में लगातार घूसखोरों के करोड़पति होने की खबरे आती रही हैं। रिश्वत के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हाल ही में शहडोल में बिजली कंपनी का एक जूनियर इंजीनियर राजेश तिवारी गिरफ्तार हुआ है। वह 15 लाख रुपए की रिश्वत लेते धराया गया था। इस मामले में रीवा लोकायुक्त ने लगातार दो दिन तक छानबीन करने के बाद बड़ा खुलासा हुआ है। अभी तक की जांच में लोकायुक्त की टीम ने करीब दो करोड़ की सम्पत्ति का पता लगाया है, जिसमें रीवा और सतना में आलीशन मकान के साथ ही बैंक बैलेंस, वाहन, बीमा पॉलिसी आदि शामिल है।

लोकायुक्त एसपी राजेंद्र वर्मा कहते हैं कि जांच कार्रवाई अभी भी जारी है, ऐसे में अभी और सम्पत्ति सामने आ सकती है। उल्लेखनीय है, सीधी जिले के रहने वाले ठेकेदार भानू प्रकाश कचेर की शिकायत पर लोकायुक्त रीवा की टीम ने इस समय शहडोल में पदस्थ जूनियर इंजीनियर तिवारी को दस लाख रुपए कैश और पांच लाख का चेक रिश्वत के रूप में लेते पकड़ा था।