चीन में MBBS की पढ़ाई कर रही MP की बेटी साक्षी का निधन, पार्थिव शरीर भारत लाने सीएम ने दिया सहयोग का भरोसा

Atul Saxena
Published on -

MP daughter Sakshi Singh died in China : चीन में मेडिकल (MBBS) की पढ़ाई कर रही MP के रीवा की बेटी साक्षी सिंह का पिछले दिनों 5 मई को निधन हो गया, निधन का कारण कार्डियक अरेस्ट बताया जा रहा जा रहा है, साक्षी के परिवार का रो रो कर बुरा हाल है, उसकी छोटी बहन तनुश्री भी चीन में दूसरे शहर से MBBS कर रही है, परिवार साक्षी की पार्थिव देह भारत लाने के लिए गुहार लगा रहा है, आज चार दिन बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पार्थिव देह भारत लाने में हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है।

चीन में MBBS की पढ़ाई कर रही MP की बेटी साक्षी का निधन, पार्थिव शरीर भारत लाने सीएम ने दिया सहयोग का भरोसा

5 मई को कार्डियक अरेस्ट से साक्षी का निधन 

जानकारी के मुताबिक रीवा के अरुण नगर के रहने वाले शैलेष कुमार सिंह ने अपनी दो बेटियों साक्षी सिंह और तनुश्री सिंह को मेडिकल (MBBS) की पढ़ाई करने चीन भेजा था। 26 साल की साक्षी ने 2018 में एमबीबीएस करने के लिए चीन के सिचुआन शहर की लूजोहू साउथ वेस्ट मेडिकल यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया था, जब वह वहां पढ़ाई कर रही थी तभी कोराना फैल गया और फिर उस विषम हालात में साक्षी रीवा लौट आई थी, इस साल साक्षी का फ़ाइनल ईयर था जिसकी पढ़ाई के लिए अभी दो महीने पहले ही वो वापस चीन गई, लेकिन 5 मई को उसका कार्डियक अरेस्ट से निधन हो गया।

अंतिम बार चाचा से फोन पर रीवा में की थी बात 

साक्षी के निधन की सूचना मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने सबसे पहले साक्षी की छोटी बहन तनुश्री को दी, क्योंकि तनुश्री सिंह भी चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रही है। इसके बाद उसने घरवालों की इसकी जानकारी दी, तनुश्री ने भी रो रो कर माता पिता को बड़ी बहन के निधन का समाचार दिया। बताया जा रहा है कि साक्षी सिंह को जिस दिन अटैक आया उस दिन उसने रीवा में अपने चाचा से फोन पर बात की थी, उसने सांस लेने में दिक्कत बताई थी, तब चाचा ने उसके रूम पार्टनर को फोन कर साक्षी को अस्पताल ले जाने के लिए कहा था लेकिन उसकी जान बचाई नहीं जा सकी।

माता पिता ने बेटी की पार्थिव देह भारत लाने PM और CM से लगाई गुहार  

बेटी के निधन के बाद उसका चेहरा देखने के लिए माता पिता परेशान हो गए है क्योंकि चीन से उसका पार्थिव शरीर भारत लाना आसान बात नहीं है, माता पिता ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विदेश मंत्री एस. जयशंकर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को इसके लिए ट्वीट किया। परिवार ने पूर्व मंत्री और रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ल से भी मुलाकात की जिसके बाद विधायक शुक्ल ने भी इस संबंध में तुरंत विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा। उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान को भी इस मामले की जानकारी दी। विधायक ने विदेश मंत्री को ट्वीट कर सहयोग की अपील की ।

सीएम शिवराज ने दिया पूरे सहयोग का भरोसा 

परिवार की अपील के जवाब में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज ट्वीट कर लिखा – रीवा, मध्य प्रदेश से भांजी साक्षी सिंह चीन में MBBS की पढ़ाई कर रही थीं, जिनका आकस्मिक देहांत हो गया है। उनके परिवार से जानकारी मिली, मन अत्यंत व्यथित है और मेरी संवेदनाएं परिवार के साथ हैं। भांजी साक्षी के पार्थिव शरीर को भारत लाने के लिए जिस भी कार्रवाई की आवश्यकता है, मध्यप्रदेश सरकार उसे तत्काल रूप से पूरा कर रही है।

पुश्तैनी गाँव में अंतिम संस्कार करना चाहते हैं बेटी का 

अब उम्मीद की जा रही है कि माता पिता और अन्य परिजनों को साक्षी का अंतिम दर्शन जल्दी हो जायेगा लेकिन ये कहना अभी बहुत मुश्किल है कि चीन से भारत पार्थिव देह आने में कितना समय लगेगा, हम भी संवेदनशील मुख्यमंत्री से अपील करते हैं कि जितना जल्दी हो सके एमपी की इस बेटी की पार्थिव देह उसके परिवार तक जल्दी पहुँचाने की व्यवस्था करें। क्योंकि परिवार चाहता है कि साक्षी का अंतिम संस्कार उनके पुस्तैनी गांव कुठिला, तहसील त्योंथर में हो।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News