Sagar News: बिजली का पोल शिफ्ट किए बिना बन गई सड़क, दुर्घटना संभावित सड़क को कैसे मिली मंजूरी?

यहां नयी सड़क बनाते हुए बीच में खड़े बिजली के खंबे (electricity pole) को भी शिफ्ट करना जरुरी नहीं समझा गया। नयी सड़क का निर्माण भी हो गया और बिजली का पोल ज्यों का त्यों ही खड़ा रहा। अब उस सड़क से गुजरने वाले राहगीरों के लिए खतरा हमेशा ही बना रहेगा।

sagar

सागर, ब्रजेन्द्र रायकवार। मध्यप्रदेश के सागर (sagar) जिले में सड़क निर्माण (road construction) के दौरान सड़क ठेकेदार की नई करतूत सामने आई है। यहां नयी सड़क बनाते हुए बीच में खड़े बिजली के खंबे (electricity pole) को भी शिफ्ट करना जरुरी नहीं समझा गया। नयी सड़क का निर्माण भी हो गया और बिजली का पोल ज्यों का त्यों ही खड़ा रहा। अब उस सड़क से गुजरने वाले राहगीरों के लिए खतरा हमेशा ही बना रहेगा।

यह घटना सागर- सिलवानी स्टेट हाइवे -15 राजघाट मार्ग पर मैनपानी गांव के थोड़ी आगे स्टेट हाईवे 15 से सलैया गाजी गांव तक जाने वाली सड़क की है। यह सड़क प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत बनाई गई है। स्टेट हाईवे से सलैया गाजी गांव तक जाने वाली इस सड़क पर ही बिजली का पोल है। जहां पर सड़क ठेकेदार द्वारा बिजली के पोल को शिफ्ट करवाए बिना ही सड़क बना दी और अब यह बिजली का खंबा भी बीच सड़क पर लगा है। इस वजह से दुर्घटनाएं होने का डर बना रहता है। हालांकि, सड़क के दोनों ओर काफी जगह है।

यह भी पढ़ें… मातम में बदली खुशियां: विदाई के दौरान दुल्हन की Heart Attack से मौत, मचा हड़कंप

लेकिन मुद्दा ये है कि सड़क निर्माण के दौरान अधिकारियों और सड़क ठेकेदार द्वारा इस खतरे को मद्दे नजर क्यों नहीं रखा गया। सड़क को आज- बाजू मोड़ा जा सकता था। शासकीय इंजीनियर का इस सड़क को बिना आपत्ति के मंजूर कर देना साथ ही मूल्यांकन कर देना काफी ताज्जुब की बात है।