BJP-former-leader-from-surkhi-advise-to-sadhvi-pragya-thakur

भोपाल/सागर

भोपाल लोकसभा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ अब पार्टी में ही विरोध होने लगा है। उनके हालिया बयान से पार्टी के नेताओं ने नाराजगी जाहिर की है। इसी क्रम में सबसे पहले सोशल मीडिया पर बीजेपी पूर्व विधायक पारुल साहू ने मोर्चा खोला है। उन्होंने सोशल मीडिया पर प्रज्ञा के बयान की निंदा की है। उन्होंने कहा कि अनेकता में एकता ही भारत की पहचान है। 

उन्होंने कहा कि बीजेपी पार्टी की कार्यकर्ता होने के नाते हम सब जानते हैं सबका साथ सबका विकास पार्टी यही भारतीय जनता पार्टी की विचार धारा है। इसकी वजह से देश का युवा हमसे जुड़ा है। इसलिए मुझे लगता है कि इस तरह के जो बयान आते हैं वह पार्टी के लिए बड़ा नुकसान हैं। आज का यूथ इस रह के बयान पसंद नहीं करता है। इसलिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को इस बारे में चिंता करना चाहिए। आजका युवा सबका साथ सबका विकास विचारधारा पर चलता है। 

गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा के लगातार विवादित बयान से देश भर में बीजेपी की कड़ी आलोचना हो रही है। जिसे पार्टी के लिए भी संभालना मुश्किल हो रहा है। संघ ने डेमैज कंट्रोल करने के लिए साध्वी को संवेदनशील मामलों पर बयान देने से मना कर दिया है। उनके किस तरह के बयान देना है इसके लिए बीजेपी प्रवक्ता मदद करेंगे। वह आतंकवाद के मु्द्दे पर अब कोई बयान नहीं देंगे। वही, पार्टी ने उन्हें धर्म पर खुल कर बात करने की अनुमति दी है। लेकिन अंदरखाने की खबर है कि कई बीजेपी नेता इस फैसले से नाराज हैं। साध्वी के लगातार विवादित बयान से उनकी जनता के बीच छवि खराब हो रही है। इन सब को देखते हुए बीजेपी ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जिम्मा दिया।