बीजेपी की राज्यसभा सांसद का हुआ अपमान! भड़की जिला कांग्रेस अध्यक्ष

दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही कर सम्पूर्ण अनुसूचित जाति व महिला वर्ग का अपमान करने संबंधी प्रकरण दर्ज किया जाए

सागर,डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के सागर (Sagar) से एक बड़ी खबर आ रही है जहां राज्यसभा सांसद सावित्री वाल्मीकि को उनकी ही सरकार और प्रशासन द्वारा बेइज्जत कर कमरे से बाहर निकाल दिया है यह कृत्य संपूर्ण वाल्मीकि समाज और महिला जाति का घोर अपमान है। सरकार और प्रशासन के इस कृत्य से अनुसूचित जाति तथा महिला वर्ग के प्रति भाजपा का दोगला चेहरा सामने आया है। इस शर्मनाक कृत्य के लिए सरकार संपूर्ण अनुसूचित जाति और महिला वर्ग से सार्वजनिक माफी मांगे तथा दोषियों के विरुद्ध तत्काल दंडात्मक कार्यवाही करें।

यह भी पढ़े…Weight Loss: वजन घटाने की कर रहें है कोशिश, तो Drinking की इन आदतों का रखें खास ख्याल

बता दें कि यह मांग जिला कांग्रेस अध्यक्ष रेखा चौधरी महापौर चुनाव के प्रभारी सुरेंद्र सुहाने तथा संचालक रामकुमार पचौरी ने महामहिम राष्ट्रपति और राज्यपाल से की है। कांग्रेस नेताओं ने उक्त संबंध में कहा कि जबलपुर से नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य सावित्री वाल्मीकि को नगर निगम चुनाव में प्रचार के लिए भाजपा द्वारा सागर बुलाया गया था। इसके लिए उन्हें शासकीय सत्कार के साथ सर्किट हाउस के कक्ष क्रमांक 3 में रुकवाया गया था। भाजपा प्रत्याशी के प्रचार से वापस लौटने पर उनकी बिना जानकारी या अनुमति के उनका सामान दूसरे कमरे में शिफ्ट कर दिया गया। जिसके बाद वह कमरा प्रदेश सरकार के एक बड़े ब्राह्मण मंत्री को दे दिया गया।

यह भी पढ़े…MP: ग्वालियर में होगा भव्य भगवान जगन्नाथ रथयात्रा का आयोजन, विदेशी भक्त भी होंगे शामिल, जाने तारीख 

कांग्रेस नेताओं ने अपने आरोप में कहा है कि भाजपा और इसकी सरकार वोटों की राजनीति के तहत अनुसूचित जाति वर्ग और महिलाओं का उपयोग करने के बाद उनका इसी तरह घोर अपमान करती है। केंद्र और प्रदेश में भाजपा सरकार के रहते वाल्मीकि समाज की अनुसूचित जाति वर्ग की महिला नेत्री का वोटों के सौदागरों द्वारा किया गया यह अपमान संपूर्ण समाज के लिए बर्दाश्त से बाहर है।

यह भी पढ़े…ESIC Recruitment 2022: असिस्टेंट प्रोफेसर पद के लिए निकली बंपर भर्तियां, ये है पूरी जानकारी

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता डॉ संदीप सबलोक ने बताया कि कांग्रेस नेताओं ने आशंका व्यक्त की है कि सोची समझी साजिश के तहत किए गए इस अपमान पर केंद्र और प्रदेश में बैठी भाजपा सरकार न्याय नहीं दे सकती हैं। इसीलिए सर्वोच्च संवैधानिक पद पर बैठे अनुसूचित जाति वर्ग के सबसे बड़े प्रतिनिधि महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तथा प्रदेश की महिला राज्यपाल से जबलपुर सांसद सावित्री वाल्मीकि को न्याय प्रदान करते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही कर सम्पूर्ण अनुसूचित जाति व महिला वर्ग का अपमान करने संबंधी प्रकरण दर्ज किया जाए।