सागर में पीड़ित परिवार से मिले सीएम मोहन यादव, आर्थिक सहायता की घोषणा, गाँव में बनेगी पुलिस चौकी

मुख्यमंत्री खुरई विधानसभा के बरोदिया नोनागिर गांव में अहिरवार परिवार से मिलने पहुँचे। पूरे गाँव में चाचा-भतीजी की मौत के बाद से सनसनी है। अंजना अहिरवार की एंबुलेंस से गिरकर मौत को लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं, इसे लेकर सीएम ने कहा कि सरकार पीड़ित परिवार के साथ है।

cm

CM Mohan Yadav met the victim family in Sagar : सीएम डॉ. मोहन यादव सागर जिले की खुरई विधानसभा के बरोदिया नोनागिर गांव में पीड़ित परिवार से मिलने पहुँचे। उन्होंने यहाँ दिवंगत राजेंद्र अहिरवार और अंजना अहिरवार के परिवारवालों से बात की और उन्हें ढांढ़स बँधाया। सीएम ने परिवार वालों को 8,25,000 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा भी की। इसी के साथ उन्होंने बड़ोदिया नोनागिर में पुलिस चौकी बनाने की घोषणा भी की।

सीएम ने पीड़ित परिवार से की मुलाक़ात 

मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा कि पीड़ित परिवार को आठ लाख पच्चीस हज़ार की सहायता राशि दी जाएगी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आधी राशि 4,12,500 बैंक खाते में जमा होगी और शेष आधी राशि चालान प्रस्तुत होने पर दी जाएगी। घटना पर दुख जताते हुए सीएम ने कहा कि राज्य सरकार पीड़ित परिवार के साथ है और दुबारा ऐसी घटना न हो इसके लिए अब गाँव में पुलिस चौकी बनाई जाएगी। वहीं कांग्रेस द्वारा लगाए जा रहे आरोपों पर उन्होंने कहा कि ये दुखद घटना है और वो विपक्ष को कहना चाहते हैं तो ऐसे मौक़े पर राजनीति न करें। उन्होंने कहा कि सरकार इस घटना को लेकर संवेदनशील है और पूरी कोशिश रहेगी कि ऐसी घटनी दुबारा न हो।

ये है मामला

दरअसल अहिरवार परिवार में इन घटनाओं का सिलसिला शुरु हुआ पिछले साल अगस्त में जब नितिन अहिरवार की पीट पीटकर हत्या कर दी गई थी। उसकी बहन अंजना अहिरवार से छेड़छाड़ का विरोध करने पर नितिन के साथ मारपीट की गई और उसकी हत्या कर दी गई। अब फिर इस परिवार में दो लोगों की मौत हो गई है। शनिवार रात को कुछ लोगों ने अंजना के चाचा राजेंद्र अहिरवार (24) को पीट पीटकर बुरी तरह घायल कर दिया। उसे इलाज के लिए भोपाल लाया जा रहा था लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। इसके बाद अंजना अहिरवार अपने चाचा का शव लेकर लौट रही थी और रास्ते में एंबुलेंस से गिरकर उसकी भी संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इस घटना के बाद सीएम मोहन यादव ने परिजनों से मुलाक़ात की और उन्हें भरोसा दिलाया कि सरकार उनकी हरसंभव मदद करेगी।


About Author
श्रुति कुशवाहा

श्रुति कुशवाहा

2001 में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (M.J, Masters of Journalism)। 2001 से 2013 तक ईटीवी हैदराबाद, सहारा न्यूज दिल्ली-भोपाल, लाइव इंडिया मुंबई में कार्य अनुभव। साहित्य पठन-पाठन में विशेष रूचि।