पिता ने मोबाइल पर गेम खेलने से रोका तो चौथी कक्षा के छात्र ने दे दी जान

सोमवार सुबह सीताराम ने अपने छोटे बेटे रोहन को गेम खेलने से मना किया और मोबाइल नहीं दिया। इसके बाद वे घर से निकल गए, जब लौटकर आये और रोहन को बुलाया और खाना खाने के लिए कहा, लेकिन रोहन ने गुस्से में खाना नहीं खाया और रोहन घर के दूसरे कमरे में गया और दरवाजा लगा लिया। इस दौरान रोहन ने अंदर जाकर तौलिये से फांसी लगा ली।

सागर, शुभम पाठक | बच्चों में मोबाइल (Mobile) चलाने की लत के घातक परिणाम सामने आ रहे हैं| प्रदेश के सागर (Sagar) जिले में एक बच्चे ने मोबाइल चलाने से मना करने कर पर फांसी लगाकार जान दे दी| बच्चा रोज मोबाइल पर गेम खेलता था, जब उसके पिता ने मोबाइल चलाने से मना किया तो बच्चे ने यह कदम उठा लिया|

जानकारी के मुताबिक, घटना जिले के धना गांव की है, यहां के रहने वाले सीताराम पटेल फुल्की का ठेला लगाते हैं और उनका 12 साल का बेटा कक्षा चौथी में पढ़ता था। पिता ने गेम खेलने से मना कर पढ़ने के लिए कहा तो वह इस बात से नाराज हो गया और फांसी लगा ली।

पुलिस के मुताबिक, सोमवार सुबह सीताराम ने अपने छोटे बेटे रोहन को गेम खेलने से मना किया और मोबाइल नहीं दिया। इसके बाद वे घर से निकल गए, जब लौटकर आये और रोहन को बुलाया और खाना खाने के लिए कहा, लेकिन रोहन ने गुस्से में खाना नहीं खाया और रोहन घर के दूसरे कमरे में गया और दरवाजा लगा लिया। इस दौरान रोहन ने अंदर जाकर तौलिये से फांसी लगा ली।

जब उसकी आवाज आई तो उसकी आवाज सुनकर घर के लोग पीछे वाले रास्ते से कमरे के अंदर पहुंचे और फंदे से रोहन को उतारा। उसकी सांसें चल रही थीं। परिवार के लोग उसे तुरंत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मार्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here