रिश्वतखोरी के दो मामले, पटवारी और उपपंजीयक रंगेहाथ पकड़ाए

Two-cases-of-curruption

सागर। 

इन दिनों मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचारियों का बोल बाला है। मध्यप्रदेश में आज रिश्वत खोरी के दो बड़े मामले सामने आये है। बता दें कि सागर लोकायुक्त की टीम ने सागर संभाग में दो अलग अलग जिलों में रिश्वत की मांग कर रहे भ्रष्ट अधिकारीयों एवं कर्मचारियों पर कार्यवाही की है। 

पहला मामला मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के बड़ा मल्हारा का है जहां नोने लाल बुनकर नाम के एक पटवारी को जमीन बंटवारे के कागजों के नाम तुलसी राम लोधी द्वारा दो हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हांथो पकड़ा है। पटवारी नोने लाल बुनकर के देरी रोड छतरपुर स्थित निवास पर भी छापा मारा है जहां से लोकायुक्त की टीम ने कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जप्त किए हैं। 

भ्रष्टाचार का दूसरा मामला सागर जिले के बीना का है, जहां तीन हज़ार की रिश्वत लेते हुए प्रभारी उप पंजीयक को अपने ही ऑफिस के एक चपरासी के साथ गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि उप पंजीयक पर शेलेन्द्र दुबे नामक व्यक्ति से रजिस्ट्री कराने के लिए अपने चपरासी रामनिवास कुशवाह के हांथो से रिश्वत लेने के आरोप है। लोकयुक्त ने यह कार्यवाही बीना निवासी आवेदक शेलेन्द्र दुबे के आधार पर उप पंजीयक एवं उसके चारपासी पर की है।