पटवारी हत्याकांड का खुलासा, पत्नी ने ही प्रेमी और दोस्त के साथ मिलकर की थी हत्या

सतना| पुष्पराज सिंह बघेल| सतना पुलिस (Satna Police) ने एक बार फिर अंधी हत्या का खुलासा कर दिया है। बीते दिन प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिल कर पटवारी संदीप सिंह की हत्या के मामले में कोलगवां पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए मृतक की पत्नी प्रियंका सिंह, पत्नी के प्रेमी अनूप सिंह और प्रेमी के दोस्त सनी सिंह को गिरफ्तार कर लिया है।  हत्या के इस मामले में सबसे पहले पुलिस के हत्थे चढ़ी पत्नी को जहां सेंट्रल जेल भेज दिया गया है, वहीं हत्या के दो अन्य आरोपी को मंगलवार सगमनिया से गिरफ्तार कर लिया गया है। जिन्हें आज अदालत में पेश किया गया। तीनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा- 302, 201, 34और 120 बी तहत  अपराध दर्ज किए गए हैं।

पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने बताया कि 31 मई और एक जून की दरमियानी रात कोलगवां थाना अंतर्गत संतोषी माता मंदिर के पीछे सगौनी में पदस्थ पटवारी संदीप सिंह पिता छोटे लाल सिंह की किराए के मकान की दो मंजिला छत से गिर कर संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु की जानकारी मिलने पर कोलगवां के थाना प्रभारी मोहित सक्सेना के नेतृत्व में पुलिस ने फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वॉड के साथ मौके पर जाकर पड़ताल शुरु की थी।  जांच में ये तथ्य सामने आया कि तकरीबन 30 फिट के ऊंचाई से किसी युवक के नीचे गिरने से उसमें फ्रैक्चर आ सकते हैं, मगर मल्टीपल एन्जुरी शक के दायरे में आ गई। घटना स्थल से उपलब्ध कुछ साक्ष्यों के चलते भी अब ये तय करना कठिन नहीं था कि मौत महज हादसा नहीं है। यहीं से हत्या की आशंका गहराई। पुलिस अधीक्षक के मुताबिक मामले की गंभीरता के मद्देनजर एडीशनल एसपी गौतम सोलंकी और सीएसपी विजय प्रताप के मार्गदर्शन में मुखबिर तंत्र फैलाकर विवेचना आगे बढ़ाई गई तो वारदात के चिन्हित संदेहियों की कड़ी मृतक की पत्नी प्रियंका  से जुड़ गई। मोबाइल नंबरों को सर्विलॉस पर लिया गया तो प्रियंका की संदिग्ध गतिविधियों की भी पुष्टि हो गई। उसे हिरासत में लेकर बारीकी से पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

मारपीट और झगडे से परेशान थी पत्नी, 14 दिन पहले रची हत्या की साजिश
पूछताछ में मृतक की पत्नी ने पुलिस को बताया कि उसका पति आए दिन उससे मारपीट और झगड़ा करता रहता था। वह बहुत परेशान थी। अपनी दो बेटियों को स्कूल लाने-ले जाने के दौरान वह तकरीबन तीन साल पहले सगमनिया निवासी अनूप सिंह पिता जयबहादुर सिंह  के संपर्क में आई थी। दोनों के बीच इश्क हो गया। अनूप भी पति की प्रताडऩाओं से परिचित था। आरोपी पत्नी के हवाले से पुलिस ने बताया कि एक दिन अनूप घर पर ही था कि पति भी आ गया। दोनों के बीच मारपीट और गाली गलौच हुई। दोनों के बीच ये झगड़ा नया नहीं था। उसने बताया कि पटवारी की हत्या की साजिश तीनों ने मिलकर 14 दिन पहले रची थी।

पहले छत से फेंका, फिर पत्थर से कुचला
वारदात के 2 से 3 दिन पहले से अनूप और सगमनिया निवासी सनी सिंह पिता गुलाब सिंह  घर के नीचे आकर मौके की तलाश में रहते थे। वारदात की रात 11 बजे पति संदीप सिंह खाना खाकर रोज की तरह मोबाइल लेकर छत पर चला गया। उधर, साजिश के तहत उसकी पत्नी ने मेन गेट का ताला खोलकर अनूप सिंह को घर के अंदर कर लिया। दोनों जब चुपके से छत पर पहुंचे तो संदीप छत की बाउंड्री पर बैठ कर मोबाइल में व्यस्त था। उसने पत्नी और उसके प्रेमी को एक साथ देखा तो भागने की कोशिश की लेकिन इससे पहले की वह संभल पाता अनूप ने उसे धक्का देकर नीचे गिरा दिया। उसका साथी सनी घर के बाहर कहीं छिपा था। उधर, अनूप भागकर नीचे पहुंचा और दर्द से तड़प रहे पटवारी के सिर पर पत्थर से कई प्रहार कर दिए। उसकी वहीं पर मौत हो गई। पति की मौत पर पत्नी ने सनी को भी भाग जाने के लिए मोबाइल पर एसएमएस भेज दिया और दो घंटे बाद पति की लाश के पास आकर विलाप करने लगी।

पति की हत्या के आरोप में गिरफ्तार प्रियंका सिंह के हवाले से एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि पटवारी संदीप सिंह से उसकी लव मैरिज तकरीबन 5 साल पहले हुई थी। दो बेटियां भी हैं। प्रियंका ने पुलिस को बताया कि उसका पति रीवा की एक महिला पटवारी के संपर्क में था और दोनों ने शादी करने की तैयारी कर ली थी। विरेाध करने पर आए दिन मारपीट करता था। बात इस हद तक बिगड़ चुकी थी कि प्रियंका ने पति से तलाक के लिए कोर्ट में  14 हजार के मासिक गुजारा भत्ता और 24 लाख का क्लेम कर रखा था। प्रकरण अंतिम चरण में था। प्रियंका का आरोप है कि उसने अपनी प्रेमिका के साथ मिलकर उसकी हत्या की साजिश रच रखी थी। उसको आशंका थी कि अगर वो अपने पति को रास्ते से नहीं हटाती है तो वह उसकी हत्या करा देगा।

छत से गिरने का रिक्रिएशन किया
संदिगध मौत पर सतना एस पी ने छत से गिरने का रिक्रिएशन किया ऐसा पहली बार था जब हत्या के मामले में  आरोपियों के अलग-अलग बयानों की पुष्टि के लिए घटना स्थल पर मानव डमी के माध्यम से वारदात का नाटकीय रुपांतरण ( रिक्रिएशन) किया गया। एसपी रियाज इकबाल की मौजूदगी में  दो मंजिला मकान से मृतक की ऊंचाई और वजन का एक पुतला उसी जगह से साढ़े  28 फिट नीचे फेंका गया जहां से पटवारी को अनूप ने धक्का दिया था। यह हैरतंगेज था कि पुतला उसी स्पॉट पर जा कर गिरा जहां पर लाश मिली थी। और फिर अंधी हत्या से पर्दा उठ गया हत्या के आरोपी कोई और नही बल्कि पत्नी,प्रेमी और, प्रेमी का दोस्त निकला हत्या के मामले में अब तीनो पुलिस की गिरफ्त में है।