सतना, पुष्पराज सिंह बघेल। जिले में चिकित्सकों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां नसबंदी कराने आई महिलाओं को बेहोशी का इंजेक्शन तो लगा दिया गया लेकिन बीच ऑपरेशन में ही डॉक्टर साहब बेहोश महिलाओं को छोड़कर निकल लिये।

मामला सतना जिले के रामपुर बाघेलान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है जहां पर 21 महिलाओं को बेहोशी का इंजेक्शन दिया गया और उन्हें नसबंदी कराने के लिए पूरी तरह तैयार करा लिया गया। लेकिन सतना जिला मुख्यालय से यहां पहुंचे डॉ एम एम पांडेय ने 10 महिलाओं का ऑपरेशन किया और बाकी को बेहोशी की हालत में छोड़कर वापस सतना जिला मुख्यालय लौट गए।

इस पूरे घटनाक्रम के बाद जहां एक तरफ परिवार नियोजन कराने पहुंची हितग्राहियों के परिजन गुहार लगाते रहे वहीं दूसरी तरफ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ अधिकारी ने भी डॉक्टर साहब को रोकने का प्रयास किया। लेकिन डॉक्टर साहब तो डॉक्टर साहब ठहरे, भला वो क्या किसी की सुनने वाले थे। जब इस मामले में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से ही बात करने का प्रयास किया गया, जो बात करने के लिए तैयार नहीं थे। ये मामला सही मायने में घोर लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना रवैये का एक बड़ा उदाहरण है। सरकार एक तरफ जहां परिवार नियोजन के लिये हरसंभव प्रयास कर रही है वही ऐसे चिकित्सक सरकार की योजनाओं को पलीता लगाने में जुटे हुए हैं।