MP : चलती बस में बंदूक की नोंक पर व्यापारी के बेटों की बदमाशों ने कैसे की किडनैपिंग, देखें वीडियो

kidnapping-of-school-children-on-bus-by-masked-kidnappers-in-mp

सतना।

मध्यप्रदेश में अपहरण की घटनाओं से हड़कंप मच गया है| इंदौर के बाद सतना से बच्चों के अपहरण का मामला सामने आया है। यहां बाइक सवार अज्ञात बदमाशों ने स्कूल की एक बस को रोककर बंदूक की नोंक पर दो बच्चों का अपहरण कर लिया है। दोनों बच्चे तेल व्यापारी ब्रजेश रावत के बताए जा रहे हैं। रावत परिवार की तरफ से पुलिस को सूचना दे दी गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। हालांकि अभी तक अपरहरणकर्ताओं द्वारा कोई फिरौती की मांग नही की गई है। घटना के बाद से ही शहर में दहशत का माहौल है। चुंकी हाल ही में इंदौर से एक छह साल के बच्चे का अपहरण कर लिया गया था, हालांकि 27 घंटे के अंदर ही पुलिस ने उसे ढूंढ निकाला। इस घटना की चर्चा भी शांत भी नहीं हुई थी कि अब सतना में इस सनीसनीखेज घटना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है|

जानकारी के अनुसार, आज मंगलवार को बाइक पर सवार दो अज्ञात बदमाशों ने चित्रकूट के सद्गुरु ट्रस्ट स्कूल की बस को रोक दिया। इसके बाद  हाथों में देशी कट्टा लेकर बस में चढ़े और चालक -कंडेक्टर समेत सबको धमकाया और फिर दोनों बच्चों शिवम और देवांग  को बस से नीचे उताकर ले गए।दोनों की उम्र पांच साल के आसपास बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि दोनों बच्चे तेल व्यापारी ब्रजेश रावत के हैं। सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जांच शुरू की।  दिन दहाड़े हुई इस वारदात से इलाके में दहशत का माहौल है।फिलहाल नयागांव थाना इलाके की पुलिस बच्चों के पिता से पूछताछ कर रही है।हालांकि घटना चौराहे के सीसीटीवी में कैद हो गई है।पुलिस वीडियो के आधार पर आरोपियों की तलाश कर रही है।

बता दे कि दो दिन पहले इंदौर किराना दुकान संचालक के छह साल के बेटे अक्षत का अपहरण कर लिया था। जिसके बाद से इंदौर पुलिस हरकत में आई और 10 लाख रुपए की फ़िरौती की मांग के लिए आए फ़ोन नम्बर को ट्रेस किया गया। पुलिस ने अपहरणकर्ताओ से लड़की की आवाज में बात की जिसके बाद परत दर परत पूरे मामले का खुलासा हो गया और आखिर में 36  घंटे की मेहनत के बाद अक्षत सकुशल सागर के बरोदिया गांव से मिल गया। फिलहाल अक्षत अपने परिजनों के साथ है और स्वस्थ्य है। वही झाबुआ में भी एक बच्चे के अपहरण का मामला सामने आया है। इस घटनाओं के बाद सुरक्षा व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल खड़े हो रहे है।