मध्यप्रदेश : निकाय चुनाव मे बढ़ेगी बीजेपी की मुसीबते, इस विधायक ने ठोकी ताल

विन्ध्य में नगरीय निकाय चुनाव की दमखम से तैयारी कर रहा विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच, सतना मे एक दिन में हुई पांच बैठकों में बनी रणनीति, महापौर से लेकर पार्षद तक के प्रत्याशी लड़ाने की तैयारी

mpbjp

सतना, डेस्क रिपोर्ट। पृथक विन्ध्यप्रदेश की मांग को लेकर गठित हुआ विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच नगरीय निकाय चुनाव की जोर-शोर से तैयारी कर रहा है। विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच के पदाधिकारियों ने मंगलवार को सतना में ताबड़तोड़ पांच बैठकें कर यह तय किया है कि विन्ध्य प्रदेश के सतना नगर निगम में वह महापौर और पार्षद के प्रत्याशी उतारेगा। इसी तरह की तैयारी के निर्देश रीवा, सीधी, सिंगरौली, शहडोल, उमरिया व अनूपपुर के कार्यकर्ताओं को दिये गये हैं. अलग-अलग पांच जगहों पर हुई बैठक के पश्चात यह भी तय किया गया कि चुनाव का निर्णय स्थानीय टीम के द्वारा ही लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें… indore : बच्चों के गली में खेलने के विवाद पर चली गोली, महिला की मौत, युवक गंभीर

सूत्रों की मानें तो नारायण त्रिपाठी की मौजूदगी में हुई बैठक के बाद विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच के सदस्यों ने लगभग तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरु कर दिया है। जल्द ही विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच अपने महापौर व पार्षद पदों के उम्मीदवारों के नाम घोषित कर सकता है। सूत्रों की माने तो विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच के पास सतना, रीवा, सिंगरौली में महापौर प्रत्याशी के कई विकल्प मौजूद हैं। खासतौर पर प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस से टिकट की चाहत रखने वाले लोग उनकी प्राथमिकता में शामिल हैं। माना जा रहा है कि टिकट तय होने के पश्चात अक्सर नाखुश लोग बगावत करते हैं और इसी बगावत को भुनाकर विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच अपना प्रत्याशी उतार सकता है।

नारायण त्रिपाठी

 

मध्यप्रदेश : निकाय चुनाव मे बढ़ेगी बीजेपी की मुसीबते, इस विधायक ने ठोकी ताल

यह भी पढ़ें… MP में पेट्रोल-डीजल हुआ महंगा! आज इतनी हुई वृद्धि, जाने प्रदेश के शहरों में आज ईंधन कितना महंगा

विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच के पदाधिकारियों की वृहद बैठकों में निर्णय लिया गया है कि अभी सतना नगर निगम में महापौर और 45 वार्ड में पार्षद उतारे जायेंगे। इसके पश्चात द्वितीय चरण की तैयारी होगी। सुबह 7 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक हुई पांच बैठकों के बाद विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच की अगुवाई कर रहे मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने चुनाव लडऩे का पूरा दारोमदार कार्यकर्ताओं पर छोड़ दिया है। बैठक के पश्चात श्री त्रिपाठी मैहर होते हुए जबलपुर निकल गए। अब वे 12 जून को वापस आयेंगे। तत्पश्चात महापौर और पार्षद के दावेदारों की सूची जारी की जाएगी।

आज सतना की बैठक में तय किया गया है कि निकायवार चुनावों के प्रभारी बनाकर व पर्यवेक्षकों की राय से ही मजबूत प्रत्याशी उतारें ताकि आगे चलकर ये जनप्रतिनिधि विन्ध्य प्रदेश की मांग को मजबूत कर सकें. शहडोल, रीवा, उमरिया, अनूपपुर, सिगरौली में वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी देकर कार्यकर्ताओं को चुनाव लड़ाने की तैयारी की जा रही है।

यह भी पढ़ें…. कर्मचारियों के लिए हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, आदेश जारी, 3 महीने के भीतर होगा बकाया वेतन-लीव इनकैशमेंट सहित ग्रेच्युटी का भुगतान

बढ़ सकती है भाजपा-कांग्रेस की मुसीबत

नगरीय निकाय चुनाव में अब तक दो प्रमुख दलों पर निर्भर रहने वाले मतदाताओं के पास विन्ध्य में तीसरा मजबूत विकल्प विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच आ गया है। इससे न केवल विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच के प्रतिनिधित्व में बढ़ोत्तरी होगी, बल्कि जनता के पास अच्छे प्रत्याशियों के चयन का विकल्प भी होगा। जिस कार्ययोजना के साथ विन्ध्य पुनर्निर्माण मंच की टीम आगे बढ़ रही है यदि यह हू-ब-हू अमल पर आई तो भाजपा और कांग्रेस के लिए चुनाव जीतना काफी कठिन साबित हो सकता है।