कपड़े और मोटर पंप की दुकानों पर चोरी करने वाले गिरोह के 7 सदस्यों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बदमाशों ने सतना जिले के 10 व्यापारियों की दुकान में सेंधमारी की थी। गिरोह ने लगभग चोरी की 25 घटनाओं को अंजाम दिया था।

MP News

सतना, पुष्पराज सिंह बघेल। पुलिस को एक इंटर डिस्ट्रिक (Inter district) चोर गिरोह के सात सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। पकड़े गए बदमाश कपड़ों और गल्ले के अलावा मोटर पंप की दुकानों में चोरी करते थे। इनके कब्जे से 50 लाख रुपए से ज्यादा का माल बरामद किया गया है। जिसमें कपड़े, सबमर्सिबल पंप और माल ढोने वाली बोलेरो और मैजिक गाड़ी के अलावा एक मोटरसाइकिल भी शामिल है। बदमाशों ने सतना जिले के 10 व्यापारियों की दुकान में सेंधमारी की थी। सतना रीवा में लगभग चोरी की 25 घटनाओं को अंजाम दिया था। शनिवार को पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका खुलासा करते हुए जानकारी दी।

ये भी पढ़े- दतिया एसपी का एक्शन- ASI और आरक्षक निलंबित, रिश्वत लेते हुआ था VIDEO VIRAL

दरअसल पिछले दिनों सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र में चोरी की वारदात हुई थी। जिसकी FIR दर्ज करने के बाद पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की। इसके लिए पुलिस की टीम गठित की गई और साइबर सेल की मदद से पुलिस चोरों की गाड़ी तक पहुंच गई। एक के बाद एक करके पुलिस ने 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। उनसे जब पूछताछ की गई तो आरोपियों ने 25 घटनाओं को अंजाम देने की बात कबूल की। चोर गिरोह ने साड़ियां, लहंगे और अनाज तक की चोरी की। यह सिलसिला साल 2020 से साल 2021 तक लगातार चलता आ रहा है। पुलिस उन लोगों को भी गिरफ्तार करेगी जिन लोगों ने चोरी का माल खरीदा था।

चोर गिरोह को पकड़ने के लिए पुलिस पिछले 5 महीने से खासी मेहनत कर रही थी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कपड़ा चोरी की 21 घटनाओं में 16 चोरियां सतना व पांच रीवा जिले की बदमाशों ने कुबूल की है। इसके अलावा खाद्यान्न चोरी की कुल 21 घटनाओं में सात सतना और 14 रीवा की बदमाशों ने स्वीकार की है। जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, उसने रामनरेश अमित, कमलेश, दयाराम, नारायण, देवेंद्र और एक नाबालिग आरोपी शामिल है। पुलिस राहत की सांस ले रही है कि चोरी की घटनाओं में अब रोक लगेगी। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। उम्मीद है कि और भी घटनाओं का खुलासा होगा।

 

ये भी पढे़- श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगाेपाल दास के शिष्य की संदिग्ध हालात में मौत