प्रभारी मंत्री की बैठक में बत्ती हुई गुल, BJP सांसद बोले- मंत्रीजी या तो कांग्रेस रह सकती है या बिजली

power-cut-in-meeting-of-minister-meeting-on-electricity-issue-in-bhopal

सतना।

प्रदेश में सरकार भले ही बिजली के पर्याप्त होने के लाख दावे कर लेकिन हकीकत तो कुछ और ही है। बीते दिनों गृहमंत्री बाला बच्चन अधिकारियों से साथ बैठक ले रहे थे तो बीच में ही बिजली कट गई थी, और अब शनिवार को जिले के प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया जिला योजना समिति की बैठक में पहुंचे। इस दौरान यहां बिजली गुल हो गई ।इस पर बैठक में मौजूद भाजपा सांसद ने तंज कसते हुए कहा कि  प्रदेश में या तो कांग्रेस रह सकती है या फिर बिजली ।

दरअसल, शनिवार को जिला योजना समिति की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री और सतना जिले के प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया और बीजेपी सांसद गणेश सिंह भी पहुंचे थे।  मंत्री लखन घनघोरिया विभागवार योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने जैसे ही बिजली विभाग की समीक्षा शुरू की वैसे ही बिजली गुल हो गई। इस मौके का फायदा उठाते हुए बैठक में  मौजूद भाजपा सांसद गणेश सिंह ने सरकार पर तंज कस दिया। सिंह ने कहा कि मैंने पहले ही कहा है कि प्रदेश में या तो कांग्रेस रह सकती है या बिजली पर दोनों साथ में नहीं रह सकते हैं।इस पर बैठक में मौजूद सभी हंस दिए। इस दौरान यहां बिजली गुल हो गई जिस कारण कांग्रेस सरकार की जकर किरकिरी हुई।बिजली गुल होने के बाद मंत्री लखन घनघोरिया भी असहज हो गए।इसके बाद सतना विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा ने स्थिति को संभालते हुए भाजपा की पूर्व सरकार पर आरोप लगाया। सिद्धार्थ कुशवाहा ने कहा- बीजेपी के शासनकाल में जो खंभे और तार खींचे गए थे उसमें गड़बड़ी हुई थी जिस कारण से बिजली गुल हो रही है। भाजपा के शासनकाल की गड़बड़ी अब सामने आ रही है।

बता दे कि यह कोई पहला मामला नही है।  हाल ही गृहमंत्री बाला बच्चन की  प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी बत्ती गुल हो गई थी।इसके पहले स्वास्थ्य मंत्री और डीजीपी की भी बैठक में लाइट चली गई थी। जिसको लेकर सरकार की जमकर किरकिरी हुई थी। विपक्ष ने इसको लेकर सरकार को निशाने पर भी ले लिया था। वही बीजेपी ने आने वाले बजट सत्र में इस मुद्दे को भी उठाने की बात कही है।