सतना, पुष्पराज सिंह बघेल।जिले के गरीबों की थाली में सड़ा अनाज परोसा जा रहा ,अनाज के लिए बनाए गए भंडार केंद्रों में अधिकारियों की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है । भंडार केंद्रों में खुले में रखा अनाज सड़ रहा जिसे अब पीडीएस के माध्यम से गरीबो में बांटा जा रहा । जिले में मैहर और अमरपाटन तहसील के गांव में सिजहटा ओपन कैम्प से लोड किया गया गेंहू जानवर तक खाने के लायक नहीं हैं । लापरवाही उजागर होने पर अब जिला कलेक्टर ने मामले की जांच के आदेश दिए है और सिजहटा कैम्प से गेहूं के उठाव पर रोक लगा दी है ।

दरअसल, सतना जिले के शासकीय और निजी बेयर हाउस की कमी की बजह से 14 ओपन कैम्प बनाये गए है। जहां समर्थन मूल्य पर खरीदा गया गेहूं और धान का भंडारण किया गया है ।खुले आसमान के नीचे सिर्फ पॉलीथीन से ढक कर सुरक्षित रखा गया है । ये तस्वीर है सिजहटा ओपन कैम्प की ,जिले के चार सहकारी समितियों का अनाज यहा भंडारित है ।लेकिन उचित रखरखाब की कोई व्यवस्था नहीं , यहां रखा गेहूं आवारा जानवर चट कर रहे तो वही अधिकांंश गेंहू सड़ गया है ,जो बचा भी है उसमें घुन लग चुका।

 

अब यही खराब गेहूं पीडीएस दुकानों में भेजा जा रहा जो गरीबों का उदर पोषण कटेगा ,अमरपाटन और मैहर क्षेत्र की पीडीएस दुकानों में घुना और सड़ा गेहूं पहुचने से हड़कम्प मच गया है, गरीबों ने गेहूं लेने से मना कर दिया है । लापरवही उजागर होने पर अब जिला प्रशासन ने अपनी नाकामी छुपाने के लिए अब पूरे मामले की जांच शुरु की है ।जिला कलेक्टर ने सिजहटा कैम्प में रखा गेहूं के उठाव पर रोक लगा दी है । खाद्य विभाग की तीन मामले की जांच कर रही और खराब गेहूं वापस लेकर अच्छा गेहूं देने की बात कह रही ।