बावरिया गैंग के आरोपियों की धरपकड़ को लेकर आपस में भिड़ी सतना और पन्ना पुलिस, वीडियो वायरल

वायरल वीडियो पर सफाई देते हुए एसपी ने कहा कि सिविल ड्रेस में होने की वजह कुछ कम्युनिकेशन गैप हुआ है लेकिन बेहतर कार्रवाई थी। जिसमें आरोपी दोनो के संयुक्त ऑपरेशन के बाद पकड़े गये।

सतना, पुष्पराज सिंह बघेल। सतना (Satna) और पन्ना (Panna) में बीते दिन हुई चेन स्नेचिंग (chain snatching) की हुई वारदात का आखिर खुलासा हो ही गया। बावरिया गैंग (bavaria gang) ने पन्ना में तीन तो सतना में 4 चैन स्नेचिंग की वारदात को अंजाम दिया था और फिर चित्रकूट अमावस्या में भीड़ का सहारा लेकर भागने की फिराक में थे। इन वारदातों के कारण दोनों जिलों की पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े हो रहे थे जिसके चलते दोनों जिले की पुलिस आरोपियों की सरगर्मी से तालश में जुटी थी। ऐसे में पन्ना पुलिस ने बावरिया गैंग के आरोपियों को चित्रकूट की एक लॉज में धर दबोचा और हिरासत में लेकर पन्ना रवाना हो ही रहे थे कि सतना पुलिस-पन्ना पुलिस (Satna Police-Panna Police) की गिरिफ्त से बावरिय गैंग के तीनों आरोपियों को उनके कब्जे से अपनी हिरासत में लेने के लिए पहुंचग गई। जिसके बाद दोनों जिलों की पुलिस के बीच में आरोपियों की धरपकड़ को लेकर रस्साकशी हो गई। जिसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़ें…इंदौर में वायरल फीवर का वार, अब डेंगू भी मचा रहा आतंक !

ये है मामला
मामला सतना जिले व पन्ना जिले में चेन स्नेचिंग की हुई ताबड़ तोड़ वारदात का है। जिसमें पकड़ में आये बावरिया गैंग के तीन सदस्य जगत सिंह, हरवेश, व जगतू है। जो उत्तर प्रदेश के शामली जिले के मुज्जफरपुर के रहने वाले है। जिन्होंने सतना और पन्ना दो जिलों में चैन स्नेचिंग की ताबड़तोड़ 7 वारदात को अंजाम देकर दोनों जिलों की पुलिस की नींद उड़ा दी थी। पन्ना में तीन वारदात तो सतना में 4 वारदातों को अंजाम दिया था। लिहाजा दोनों जिलों की पुलिस इन आरोपियों की सरगर्मी से तालश में जुटी थी।

आरोपी भी दो दिन की वारदात के बाद चित्रकूट में अमावस्या में उमड़ी भीड़ को आखरी निशाना बनाकार निकलने की फिराक में थे कि पन्ना पुलिस ने उन्हें एक लॉज से दबोच लिया। पन्ना पुलिस आरोपियों को लेकर रवाना होती उससे पहले चित्रकूट के पीली कोठी रोड में दोनो जिलों की पुलिस में आरोपियों की धर पकड़ की श्रेय लेने की होड़ में जमकर रस्साकस्सी हुई। वहीं इस दौरान पोलिकर्मियों में झूमा झटकी भी हुई यहां तक की चलती गाड़ी से चाबी निकलने और एक गाड़ी से दूसरी चार पहिया गाड़ी में बल पूर्वक ले जाने का वीडियो भी वायरल हुआ है। इस घटना के बाद बाबरिया गैंग की धरपकड़ से बावाल मच गया और अब पुलिस अधिकारी पूरे मामले पर चुप्पी साध बैठे है।

सतना एसपी का बयान आया सामने
सतना और पन्ना में चैन स्नैचिंग की वारदात में तीन आरोपियों की गिरफ्तारी की क्रेडिट को लेकर जहाँ दोनो जिलों की पुलिस के बीच हुई धक्का मुक्की का वीडियो वारयल हुआ है। तो वहीं अब इस मामले में सतना एसपी धर्मवीर सिंह ने बयान दिया है कि ऐसा सिविल ड्रेस की वजह से कन्फ्यूजन एवं कम्युनिकेशन न होने के कारण हुआ। हालांकि एक बेहतर पुलिसिंग थी जिसमें 30 घंटे के अंदर आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गयी है ।

यह भी पढ़ें…जब Assembly अध्यक्ष ने कहा- मुझे पीट लीजिए लेकिन कार्यवाही होने दीजिए

कम्युनिकेशन गैप के कारण हुआ यह सब
गौरतलब तलब है कि सतना पन्ना में बीते 3 व 4 सितम्बर को चैन स्नैचिंग की वारदात हुई थी जिसमे दोनो पुलिस ने ज्वाइंट ऑपरेशन चलाकर चित्रकूट से तीन आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया। सतना एसपी ने खुलासा करते हुए बताया कि ये उत्तर प्रदेश के शामली मुजफ्फरनगर का बाबरिया गैंग है । सतना और पन्ना के बाद चित्रकूट अमावस्या में लाखों की भीड़ में छुपे बैठे थे। जिन्हें खोजना बेहद मुश्किल था लेकिन शामली पुलिस की मदत से सतना एवं पन्ना दोनों के संयुक्त अभियान में आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। वायरल वीडियो पर सफाई देते हुए एसपी ने कहा कि सिविल ड्रेस में होने की वजह कुछ कम्युनिकेशन गैप हुआ है लेकिन बेहतर कार्रवाई थी। जिसमें आरोपी दोनो के संयुक्त ऑपरेशन के बाद पकड़े गये।