सीएम शिवराज के मंच से निर्देश- गरीबों का राशन रोकने वालों को हथकड़ी लगाकर भेजो जेल

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मंच से अधिकारियों को निर्देश दिए कि गरीबों का राशन रोकने वालों को जेल भिजवा दो।

सतना, डेस्क रिपोर्ट। रैगांव विधानसभा उपचुनाव (Raigaon assembly by-election)में प्रचार करने पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan)ने मंच से अधिकारियों को निर्देश दिए कि गरीबों का राशन रोकने वालों को जेल भिजवा दो। दरअसल मुख्यमंत्री को एक शिकायत मिली थी जिसमें इस बात का जिक्र था कि स्थानीय लोगों को पिछले दो महीने से राशन नहीं मिला है। रैगांव विधानसभा उपचुनाव में श्रीनगर इलाके में प्रचार करने के लिए पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सख्त तेवर दिखाए। उनके पास एक शिकायत पहुंची थी जिसमें इस बात का जिक्र था कि राशन की दुकानों से पिछले दो महीने से लोगों को अनाज नहीं मिला है।

यह भी पढ़े.. उपचुनाव : कमलनाथ की सभा में गरमाया ‘बागली’ का मुद्दा, अरुण यादव ने किया ये बड़ा दावा

शिवराज ने मंच से ही अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन लोगों ने भी ऐसा किया है, उन्हें जेल भिजवा दो। उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि किसी भी व्यक्ति को गरीबों का अनाज नहीं खाने दिया जाएगा चाहे वह कोई भी हो। जांच करने के बाद कड़ी से कड़ी कार्रवाई की बात भी शिवराज ने कही। इसके साथ ही शिवराज सिंह चौहान ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि कमलनाथ (Kamal Nath) उन्हें झूठा कहते हैं लेकिन गरीबों की हित की सारी योजनाएं कमलनाथ ने सरकार में आते ही बंद कर दी। चाहे वह महिलाओं से जुड़ी योजनाएं हो या फिर युवाओं से। अनुसूचित जाति, जनजाति और गरीब वर्ग के लोगों के लिए विभिन्न कल्याण योजनाएं, जो कमलनाथ ने बंद कर दी थी, एक बार फिर दोबारा शुरू कर दी गई है।

यह भी पढ़े..खुशखबरी: इस योजना से मिलेगी 36000 रुपये सालाना पेंशन, जानें कैसे करें अप्लाई

शिवराज ने लोगों को आश्वस्त किया कि उनके रहते लोगों को अब किसी तरह की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। शिवराज ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को विभिन्न बैंकों से राज्य सरकार (MP Government) की गारंटी पर ढाई हजार करोड़ रुपए लोन दिलाने की बात भी कही। इसके साथ ही शिवराज ने यह भी कहा कि अब आंगनबाड़ियों में मध्यान्ह भोजन बनाने की बात हो या फिर सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए ड्रेस सिलने की बात हो, यह सारे कार्य महिलाओं के समूह के माध्यम से ही किए जाएंगे।