कामगारों को अलॉट क्वार्टर में माइनिंग सरदार ने जमाया कब्जा, तो सुरक्षा गार्डों ने दिखा दिया अपनी वर्दी का दम, ये है मामला

ताज़ा मामला नगर के रेस्क्यू कॉलोनी स्थित वेकोलि का है जहां खाली बंगले में अनाधिकृत रूप से घुसने वाले माइनिंग सरदार का सामान प्रबंधन के आदेश के बाद बाहर निकाल बंगले को खाली करा दिया गया है।

छिंदवाड़ा, विनय जोशी। वेस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड द्वारा अपने कामगारों के लिए आवासों की सुविधा दी जाती है, जो कि कामगारों को रिटायर होने पर आवासों को खाली करना होता है। लेकिन ज्यादातर कामगार रिटायर होने के बाद भी मकान खाली नहीं करते। ऐसे में कार्यरत कामगारों को पर्याप्त आवास उपलब्ध नहीं हो पाते हैं। जिसके चलते प्रबंधन के सामने आवासों की मांग की सूची लंबी होती है। जब कभी कोई आवास या बंगले खाली होते हैं तो इन परिस्थितियों में लोग उसमें जबरन घुसने का प्रयास करते हैं और विवाद की स्थिति उत्पन्न हो जाती है।

ये भी देखें- उद्घाटन से पहले ही विवादों में चौपाटी, विधायक ने लगाए दुकान आवंटन में धांधली के आरोप

वहीं ताज़ा मामला पेंच क्षेत्र के रेस्क्यू कॉलोनी स्थित वेकोलि का है जहां खाली बंगले में अनाधिकृत रूप से घुसने वाले कोयला खदान में कार्यरत माइनिंग सरदार का सामान प्रबंधन के आदेश के बाद सुरक्षा गार्डों ने बाहर निकाल दिया और बंगले को खाली करा दिया। दो दिनों पूर्व सेठिया ओपन कास्ट कोयला खदान में कार्यरत माइनिंग सरदार राकेश वानवंशी द्वारा खाली बंगले में तैनात सुरक्षा गार्डों को डरा धमकाकर बंगले में अपना कब्जा जमा लिया था। मामले में दोनों के बीच लगातार दो दिनों तक चली गर्मा-गर्मी के बाद प्रबंधन के आदेश पर पेंच क्षेत्र की सुरक्षा गार्ड की टीम ने मौके पर पहुंचकर उस बंगले में रह रहे माइनिंग सरदार के परिवार सदस्यों को बाहर निकाला और प्रबंधन ने अपने दो सुरक्षा गार्ड की तैनाती कर दी।