Sehore News: सिटी केयर नर्सिंग होम का पंजीयन निरस्त, 7 दिन में भर्ती मरीजों को अन्य अस्पताल में करना होगा शिफ्ट

ऑपरेशन (operation) के बाद महिला की मौत के मामले में आखिरकार स्वास्थ्य विभाग (health department) ने सिटी केयर नर्सिंग होम (city care nursing home) का पंजीयन (registration) निरस्त (cancel) कर दिया है। 

सीहोर, अनुराग शर्मा। ऑपरेशन (operation) के बाद महिला की मौत के मामले में आखिरकार स्वास्थ्य विभाग (health department) ने सिटी केयर नर्सिंग होम (city care nursing home) का पंजीयन (registration) निरस्त (cancel) कर दिया है।  1 दिन पहले सोमवार को पंजीयन निरस्त करने का आदेश जारी करते हुए सीएमएचओ डॉ सुधीर कुमार डेहरिया ने नर्सिंग होम में भर्ती सभी मरीजों को 7 दिन में अन्य निजी अस्पताल या जिला अस्पताल में शिफ्ट करने के निर्देश दिए हैं। सिटी केयर नर्सिंग होम के संचालक को मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती करने की स्थिति में उनके परिजनों को इलाज करने की राशि वापस लौटानी होगी।

बता दें कि सिटी के हॉस्पिटल में 23 जनवरी को सावित्रीबाई प्रजापति का ऑपरेशन किया गया था इसी दौरान उनकी मौत हो गई थी। मौत को लेकर परिजनों ने काफी हंगामा किया था और मामले की जांच की मांग उठाई थी स्थानीय अधिकारियों के साथ-साथ सीएम हेल्पलाइन में भी मामले की शिकायत मृतक के बेटे ने की थी। इसी दौरान सीएमएचओ ने चार डॉक्टरों की एक समिति बना कर मामले की जांच करवाई थी कमेटी में दोषी चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई के साथ-साथ अस्पताल का पंजीयन निरस्त करने की अनुशंसा की थी। इस रिपोर्ट में यह बात साफ हो गई थी कि मरीज को ऑपरेशन के बाद किसी भी तरह की पोस्ट ऑपरेटिव केयर नहीं मिली थी जिसकी वजह से उसकी मौत हुई थी। 1 दिन पहले सोमवार को  डॉक्टर सुधीर कुमार डेहरिया ने नर्सिंग होम का पंजीयन निरस्त करने का आदेश जारी किया।

यह भी पढ़ें… जानिये मध्यप्रदेश में कैसे होंगे तबादले, नई तबादला नीति में क्या है खास

मरीज के ऑपरेशन के बाद पोस्टऑपरेटिव केयर न मिलने का जिम्मेदार कई लोगों को माना जा रहा है। इसमें समिति के अध्यक्ष प्रदीप के साथ-साथ स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अमित श्रीवास्तव, डॉ अनुराग शर्मा, डॉ प्रशांत श्रीवास्तव शामिल है। अपने प्रतिवेदन में उन्होंने अभिव्यक्त देते हुए कहा कि सावित्रीबाई और राजकुमार की मौत अस्पताल प्रबंधक डॉ हितेश शर्मा और डॉ कृष्ण कुमार द्वारा पोस्ट ऑपरेटिव केयर में भी गंभीर लापरवाही करने का कारण हुई है।