BJP विधायक रामेश्वर शर्मा ने दी उलेमाओं को चेतावनी, कांग्रेस पर भी किया प्रहार

रामेश्वर शर्मा ने कांग्रेस को यद् दिलाया कि जनसँख्या नियंत्रण पर पहला प्रहार इंदिरा गांधी ने किया था उन्होंने कहा था हम दो हमारे दो, और दिग्विजय सिंह कहते हैं होने दो।  

सीहोर, अनुराग शर्मा। भाजपा (BJP) के तेज तर्रार विधायक एवं प्रखर हिंदूवादी नेता रामेश्वर शर्मा (MLA Rameshwar Sharma) में मुस्लिम उलेमाओं को चेतावनी देते हुए कहा है कि हिंदुस्तान का अर्थ समझो, ये हिन्दुस्थान है। हिन्दू कट्टर नहीं है , हमारे देवताओं ने भी राक्षसों को सन्देश देकर मारा है, यदि तुम्हारे जैसी कट्टरता यदि हिंदुस्तान में आ गई तो तुम्हरे पुरखे भी बोलेंगे कि ये हिन्दू राष्ट्र है।

सीहोर के मंडी स्थित प्राचीन राधेश्याम मंदिर में नए महंत की नियुक्ति समारोह में पहुंचे भाजपा के तेजतर्रार विधायक और पूर्व प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने पत्रकारों से चर्चा में कांग्रेस पर निशाना साधा , उन्होंने कहा कि कांग्रेस आज बेचारी कांग्रेस हो गई है। राजनीतिक दृष्टि से पूरी कांग्रेस  निकल रहे हैं पूरे देश में।  कमल नाथ से चलते नहीं बनता , दिग्विजय सिंह किसी को टिकने  नहीं देते , कांग्रेस में आज एक अनार सौ बीमार वाली बात है।  अब तो कांग्रेस आई की जगह कांग्रेस गई हो गई है। उन्होंने कहा कि जो कांग्रेस राम की नहीं हुई वो हिन्दुस्तानियों की कैसे हो सकती है?

ये भी पढ़ें – कर्मचारी-पेंशनर्स के लिए अच्छी खबर, DA-DR में 13 फीसद की वृद्धि, वित्त विभाग ने जारी किया आदेश, जुलाई वेतन में मिलेगा लाभ

जनसँख्या नियंत्रण के विरोध के सवाल पर विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि ये मांग भाजपा की नहीं है पूरे देश की है।  उन्होंने कहा कि जनसँख्या नियंत्रण पर कांग्रेस को देश का साथ देना चाहिए क्योंको सोनिया की कांग्रेस इंदिरा की कांग्रेस से बड़ी नहीं है। जनसँख्या नियंत्रण पर पहला प्रहार इंदिरा गांधी ने किया था उन्होंने कहा था हम दो हमारे दो, और दिग्विजय सिंह कहते हैं होने दो।

 ये भी पढ़ें – MP Weather : 30 से ज्यादा जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, इन संभागों में बिजली चमकने, गिरने की चेतावनी, ऑरेंज अलर्ट जारी

उन्होंने हिन्दू राष्ट्र का विरोध कर रहे मुस्लिम उलमाओं पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें मालूम नहीं है इस देश का नाम हिन्दुस्थान है यानि हिन्दुओं के रहने का स्थान, अलग से घोषणा करने की जरुरत ही नहीं है। हिन्दू धर्म में कट्टरता नहीं है।  हमारे देवताओं ने राक्षसों को भी कई सन्देश देने के बाद ही मारा था , उनका वध किया है। हिन्दू की शांति है हिन्दू की सहजता है , हिन्दू सबको स्वीकार करता है। उन्होंने चेतावनी दी कि उलमाओं हिंदुस्तान को समझो तुम्हारे जैसी कट्टरता जिस दिन हिंदुस्तान में आ गई तो तुम क्या तुम्हारे पुरखे भी बोलेंगे कि ये हिन्दू राष्ट्र है।