अवैध उत्खनन पर लगातार कार्रवाई से माफियाओं में हड़कंप

सीहोर।अनुराग शर्मा।
नर्मदा नदी से किए जा रहे अवैध उत्खनन और परिवहन पर रोक लगाने पहली बार राजस्व और पुलिस के 200 अधिकारियों व कर्मचारियों को जब दो शिफ्ट में तैनात किया गया तो 2 दिन में ही बुधनी रेहटी और नसरुल्लागंज में 50 से अधिक रेत से भरे डंपर और पांच ट्रैक्टर ट्राली जप्त की गई। दिन रात चल रही कार्रवाई से ऐसा हड़कंप मचा किया अवैध कारोबारी निष्क्रिय नजर आ रहे हैं ।

पहली बार सभी राजस्व और पुलिस अधिकारियों को रेत खदानों के हिसाब से तैनात किया गया। इसके लिए दो शिफ्ट में ड्यूटी लगाई गई सुबह 10:00 बजे से रात 10:00 बजे तक। पहली शिफ्ट और फिर रात 10:00 बजे से सुबह 10:00 बजे तक दूसरी शिफ्ट बनाई गई ।इन शिफ्ट में अधिकारियों के साथ संबंधित थानों का अमला भी दिया गया ।इस मुहिम के कारण अब बुधनी और आसपास के क्षेत्रों की रेत खदानों को सन्नाटा पसरा गया है ।सड़क से भी रेत बहान बहुत कम निकल रहे हैं ।जो निकल रहे हैं वह भी रॉयल्टी लेकर रेत ले जा रहे हैं इनमें ओवरलोड रेत भी नहीं भरी हुई है।

बुधनी एसडीएम वरुण अवस्थी ने बताया कि रेत के अवैध उत्खनन और परिवहन रोक में जो मुहिम चलाई जा रही है। उसमें 50 अधिक रेत के ओवरलोड वाहन जप्त किए गए अब लगातार इस तरह की सख्त कार्रवाई की जाएगी। कंप्यूटर बाबा नसरुल्लागंज क्षेत्र में नर्मदा किनारे पहुंचे नदी न्यास बोर्ड के अध्यक्ष कंप्यूटर बाबा को नसरुल्लागंज क्षेत्र में नर्मदा कराने पहुंचे ।उन्होंने यहां पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि आने वाले दिनों में पूरी नर्मदा से कोई एकता वाली रेट भी आगे तरीके से नहीं निकाल पाएगा ।उन्होंने प्रदेश की कमलनाथ सरकार और अधिकारियों का भी पक्ष लिया। हालांकि कंप्यूटर बाबा के साथ जिले के स्तरीय कोई भी अधिकारी नजर नहीं आए जो चर्चा का विषय बना रहा। यह तक की खनिज विभाग के अधिकारी भी नहीं थे।