कांग्रेस ने मनाया काला दिवस, मोदी-शिवराज के खिलाफ की नारेबाजी, लोकतंत्र में तानाशाही का लगाया आरोप

95

सीहोर।अनुराग शर्मा

मंगलवार को कांग्रेसजनों ने काला दिवस के रूप में मनाया और शहर के तहसील चौराहे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ जंगी प्रदर्शन कर नौ सूत्रीय ज्ञापन तहसील कार्यालय पहुंचकर सौंपा है, जिसमें चुनी हुई सरकार को गिराने के आज 100 दिन पूरे हो गए। सरकार गिराने के पीछे भाजपा की साजिश थी। खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सांवेर में पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन में ये बात स्वीकार कर चुके हैं। भाजपा इसे अपनी उपलब्धि गिनाने में लगी है। हमने इसे लोकतंत्र की हत्या का काला दिवस मनाने का निर्णय लिया है। सभी जिला इकाइयों में विरोध प्रदर्शन किया गया। देश की मोदी सरकार और प्रदेश की शिवराज सरकार ने तानाशाही पूर्वक जनता को महंगाई की आग में झोक दिया है।

देश में कोरोना संक्रमण के दौरान में हर रोज महंगाई बढ़ती जा रही है और मोदी सरकार सच बोलने और विरोध करने वालों को देश विरोधी बता रहे है। कांग्रेस का कहना है कि मौजूदा सरकार की विफलताओं को भी जनता तक ले जाएंगे। कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाए कि पूर्व सरकार के किसान कर्ज माफी से लेकर दूसरे फैसलों में मौजूदा सरकार अड़ंगा लगा रही है। प्रदेश और देश की सरकार जनविरोधी है। पूर्व सीएम कमलनाथ के पुतले दहन का विरोध इस मौके पर कांग्रेसजनों ने बताया कि पूर्व सीएम कमलनाथ ने ईमानदारी और निष्ठा से अपने दायित्व का निर्बाह किया है उन्होंने हमेशा विकास पर जोर दिया है प्रदेश में किसानो, गरीबो दलितों और ओबीसी के लिए साहसिक कार्य किये है जिससे प्रदेश की जनता का विश्वास कांग्रेस के साथ बढ़ा है

इससे भाजपा को अपनी जमीन खिसकती नजऱ आ रही है, भाजपा के झूठे कारनामो को जनता समझने लगी है यही कारण है की भाजपा अपनी नाकामी छिपाने के लिए कमलनाथ की लोकप्रियता से रभयभीत हो कर कमलनाथ का पुतला जला कर महगाई, बेरोजगारी, आर्थिक दीवालियापन, अराजकता, भ्रष्टाचार जैसी गंभीर समस्याओ से बचने का प्रयास कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here