घर-घर दस्तक देकर स्वास्थ्य विभाग दे रहा 11 प्रकार की नि:शुल्क सेवाएं

health-department-giving-these-felicities-

सीहोर। दीपक भार्गव।

ग्राम स्तर पर संचालित दस्तक अभियान के अंतर्गत जिले में शून्य से 5 वर्ष तक के 1 लाख 88 हजार 752 बच्चों को लाभान्वित किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग  द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग के समन्वय से दस्तक अभियान में एएनएम,आशा तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता(ट्रीपल ए) द्वारा घर-घर दस्तक दी जा रही है तथा 11 प्रकार की नि‘शुल्क सेवाएं प्रदान की जा रही है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रभाकर तिवारी ने जानकारी दी कि 17 दिसंबर से 31 जनवरी 2019 तक संचालित दस्तक अभियान में 0 से 5 वर्ष तक के आष्टा ब्लाक के करीब 51 हजार 315 बच्चे, बुदनी 21 हजार 506,इछावर 23 हजार 889, नसरूल्लागंज 31 हजार 119, श्यामपुर 45 हजार 614 तथा शहरी क्षेत्र सीहोर के 15 हजार 309 बच्चों को घर-घर दस्तक देकर जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। दस्तक अभियान के अंतर्गत 6 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों का एमयूएसी टेप द्वारा गंभीर कुपोषण का चिन्हांकन, चिकित्सकीय जटिलतायुक्त चिन्हांकित गंभीर कुपोषित बच्चों को निकटस्थ एनआरसी में भर्ती कराना, 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन ए अनुपूरण, जन्म से 6 वर्ष तक के बच्चों में जन्मजात विकृतियों की पहचान एवं त्वरित प्रबंधन, समस्त 5 वर्ष तक के बीमार बच्चों की पहचान एवं संभावित मूलभूत उपचार, मां कार्यक्रम का विस्तार एवं स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए परामर्श, दस्तरोग नियंत्रण के लिए ओआरएस पैकेट का वितरण, निमोनिया से ग्रसित बच्चों में खतरे के लक्षणों की पहचान एवं निःशुल्क परिवहन द्वारा स्वास्थ्य केन्द्र पर उपचार के लिये रेफर किया जाना सहित और अन्य जरूरी सेवाएं घर-घर जाकर ग्राम स्तर पर दी जा रही हैं। अभियान के अंतर्गत जिला स्तर के अधिकारियों द्वारा प्रतिदिन ग्राम स्तर पर पहुंचकर अभियान का सघन निरीक्षण किया जा रहा है।