पांच चिटफंड कंपनी ने हजम किए करोड़ों रुपए, सख्त कार्रवाई की मांग को लेकर निवेशकों ने एसपी को सौंपा ज्ञापन

सीहोर, अनुराग शर्मा

हजारों निवेशकों और एजेंटो के करोड़ों रूपये लेकर फरार केएमजे लैण्ड डेवलेपरस इंडिया लिमिटेड, लोकहित केडिट कोआपरेटिव सोसायटी,श्री हलधर रियल्टी इंडिया लिमिटेड,आश्रय मल्टी स्टैट कापरेटिव सोसायटी कंपनी, रियलविजन इंडिया लिमिटेड कंपनी के धोकेबाज डायरेक्टरों के खिलाफ कंपनियों के पूर्व एजेंटों ने मंगलवार को एसपी कार्यालय पहुंचकर सीएसपी तुषार सिंह को ज्ञापन दिया।

सीएसपी को दिए ज्ञापन में एजेंटों ने बताया की श्री हलधर रियल्टी इंडिया लिमिटेड,आश्रय मल्टी स्टैट कॉपरेटिव सोसायटी कंपनी के डायरेक्टर जितेंद्र सोनी,हिनाबेनसोनी पर कोतवाली सीहोर में 27 मार्च 2018 का मामला दर्ज है, पुलिस ने अबतक डायरेक्टरों को गिरफ्तार नहीं किया है।

इसी प्रकार केएमजे लैण्ड डेवलेपरस इंडिया लिमिटेड, लोकहित केडिट कोआपरेटिव सोसायटी के सीएमडी डायरेक्टर संतोषी लाल राठौर,एसआर हाशमी,ग्यारसीलाल राठौर,निर्मला राठौर, कंचन रजावत,सुरेश करण, राकेश कुमार बोध,विशाल राठौर, रिन्कू राठौर पर भी ग्वालियर में अपराधिक मामले दर्ज है, इन की संपत्ति कलेक्टर के अधीन है।

रियलविजन इंडिया लिमिटेड कंपनी के सीएमडी विनोद सिंह, एमजीएम प्रदीप शर्मा के पास एजेंटों के द्वारा 6 साल में निवेशकों के 48 लाख रूपये जमा किए गया परिपक्ता अवधिपूर्ण होने पर उक्त राशि 72 लाख रूपये निवेशकों को देना था लेकिन लेकिन डायरेक्टरों ने भुगतान नहीं किया।

पांचों कंपनियों के पूर्व एजेंट रहे पूनमचंद्र मोर्य,ब्रजेश सिलावट, हरिओम जाटव, चेतन सिलावट, जगदीश सिंगरोलिया, लखन सिंह मेवाड़ा, अनार सिंह मीणा, सुरेश कुमार यादव,सीएस ठाकुर,गोपाल यादव, संजय राज, चांदमल मेहता,पुरूषोत्तम राय राजेश मालवीय आदि ने डायरेक्टरों की संपत्ति नीलाम कर निवेशकों का पैसा दिलाए जाने और फरार डायरेक्टरों को शीघ्र गिरफ्तार किए जाने और निर्दोष एजेंटो को परेशान नहीं करने की मांग पुलिस प्रशासन से की है।