आधे भी नहीं भरे जमोनिया और भगवानपुरा तालाब, अब तक जिले में हुई साढ़े बीस इंच बारिश

सीहोर, अनुराग शर्मा

बारिश कम होने से इस साल भगवानपुरा और जमोनिया तालाब आधे भी नहीं भरे हैं। यही नहीं काहिरी बंधान में भी पिछले साल की तुलना में काफी कम पानी जमा हुआ है। इनो तीनाें तालाबों से शहर को पेयजल सप्लाई होती है। तालाबों के मैचमेंट एरिया में बारिश नहीं होने के कारण यह हालात बने हैं। अब इन तालाबों को बारिश का इंतजार है। अभी तक जिले में साढ़े बीस इंच बारिश हो चुकी है। वहीं अभी औसत बारिश की जादुई आंकड़े को पार करने के लिए 26 इंच बारिश की और जरूरत है।

सावन में माह में इस साल अभी बारिश नहीं हुई। इसके बाद लोगों को भादौं में अच्छी बारिश की उम्मीद थी। लेकिन भादौं माह भी आधा बीतने को है और बारिश उम्मीद के अनुरूप नहीं हो रही है। अब यह चिंता होने लगी की यदि बारिश नहीं हुई तो तालाब खाली रह जाएंगे और गर्मी के दिनों में भीषण जलसंकट से जूझना पड़ेगा। शहर काे पेयजल पूर्ती करने वाले सबसे बड़े तालाब जमोनिया में केवल 11 फीट पानी है। यानि यह तालाब आधा भी नहीं भर सका है। पिछले साल इन दिनों में कई बार तेज बारिश हो चुकी थी। जिससे इस साल की तुलना में 12 इंच अधिक बारिश हुई थी। लेकिन इस बार हालात काफी खराब होते जा रहे हैं।

बारिश नहीं हुई तो फसलों को होगा नुकसान

यदि अधिक समय तक बारिश नहीं हुई तो फसलों को भी नुकसान होगा। सबसे ज्यादा नुकसान सोयाबीन की फसल में हो सकता है। इस साल बारिश कम होने से नगर के तालाब खाली हैं। यही नहीं काहिरी बंधान में भी पिछले साल की तुलना में कम पानी है। भगवानपुरा तालाब जहां आधा भी नहीं भर सका है। तो वहीं सबसे बड़ा तालाब जमोनिया में केवल 11 फीट पानी ही है। ऐसे में यदि अभी भी बारिश नहीं होती है तो आने वाले समय में शहर में पेयजल संकट गहरा सकता है।

पिछले साल 12 अगस्त तक लबालब हो चुके थे तालाब

शहर के पास स्थित जमोनिया तालाब से नगर पालिका नगर के लिए प्रतिदिन 40 लाख लीटर पानी सप्लाई के लिए लेती है। पिछले साल की बात करें तो 12 अगस्त तक इस तालाब में 27.9 फीट पानी भर चुका था। यानि तालाब लबालब भर गया था। इस साल तालाब में केवल 11.4 सेमी पानी ही अभी तक है। इसी तरह भगवानपुरा तालाब से भी शहर में पेयजलापूर्ती की जाती है। यह तालाब अभी 9.3 फीट भरा है। जबकि पिछले साल यह 17.8 फीट भर चुका था। काहिरी बंधान में भी इस साल काफी कम पानी है। जबकि पिछले साल यह बंधान लबालब भरा हुआ था। अभी भी बंधान से नगर में पानी सप्लाई के लिए 20 लाख लीटर पानी प्रतिदिन लिया जा रहा है।

तेज बारिश नहीं है अभी

मौसम विभाग की मानें तो आने वाले तीन तक तक तेज बारिश नहीं है। आरएके कॉलेज के मौसम वैज्ञानिक डॉ. एसएस तोमर ने बताया कि आगामी तीन दिनों तक तेज बारिश की संभावना नहीं है। हल्की बारिश का दौर चलेगा। साथ ही तेज हवा का दौर भी चलेगा। यदि हवा की गति कम हो जाती है तो बारिश अच्छी होगी।