महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा और अत्याचारों के विरोध में मुस्लिम महिला संगठनों ने सौंपा ज्ञापन

सीहोर। देश के विभिन्न हिस्सों में महिलाओं एवं मासूम बच्चियों के साथ हो रहे यौन हिंसा एवं बलत्कार की घटनाऐं निरंतर बड़ती जा रही है। जिसका ताजा उदाहरण हैदराबाद एवं उन्नाव की दिल देहलाने वाली घटनाऐं हैं। जिससे महिलाऐं व बच्चियाँ अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही है। इसी को लेकर शीबा शिक्षा एवं जन कल्याण संस्था, जमात-ए-इस्लामी महिला शाखा सीहोर एवं गल्र्स इस्लामिक ऑर्गनाईजेशन  सीहोर के द्वारा आज मंगलवार को अनुविभागीय अधिकारी को मुस्लिम महिला संगठनों के द्वारा ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें मांग की गई है कि बलत्कारियों को दण्डित किये जाने के लिये फास्ट ट्रेक कोर्ट बनाई जावे जिसमें 30 दिन के अन्दर फैसला हो, घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने हेतु सख्त इस्लामी सजाऐं दी जावे, ताकि दूसरों को भी सबक मिले, बलत्कार के कारणों अर्थात अश्लील फिल्म, विडियों, अश्लील पत्र-पत्रिकाओं, पोर्न वेबसाईडों एवं शराब आदि पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाना चाहिये। इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं में मसूदा बैगम, नय्यर सुल्ताना, बुशरा सुल्तान, सादिया खान, राहत, इलमा, हमिदा, सलमा, अल्फिया, सफिया, तुबा आदि उपस्थित थे।