सीहोर| सीहोर जिले के बुदनी में अनुसूचित जाति छात्रावास के छात्र श्रवण पवार की संदिग्ध मौत पर सरकार ने पीड़ित परिवार को 4 लाख रुपए की सहायता राशि देने का फैसला किया है| वहीं छात्रावास अधीक्षक को निलंबित करते हुए मामले के जांच के आदेश दिए हैं| शुक्रवार को लोक निर्माण एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ग्राम भड़कुल पहुंचे और छात्र के परिजनों से मिलकर शोक संवेदना व्यक्त की। मंत्री श्री वर्मा ने मौके पर ही मुख्यमंत्री कमलनाथ से चर्चाकर पीड़ित परिवार को 4 लाख रुपए की सहायता राशि स्वीकृत करवाई। 

बता दें कि दो दिन पहले अनुसूचित जाती के छात्र श्रवण पवार की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई थी। इसके बाद कल देर रात पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यहां अचानक पहुंचकर हॉस्टल का निरीक्षण किया। शिवराज सिंह चौहान यहां फैली अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी जताई और सरकार को घेरा| इसके बाद शुक्रवार को मंत्री सज्जन वर्मा सीहोर जिले के रेहटी प्रवास पर रहे । इस दौरान मंत्री छात्र के परिजनों से मिले | मंत्री श्री वर्मा ने अनुसूचित जाति छात्रावास में छात्र की मौत की घटना की जांच बिना किसी दबाव में पूर्ण निष्पक्षता व पारदर्शी तरीके  से कराने के कड़े निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए | घटना की जांच उपरांत कार्यवाही के संबंध में उन्हें भी अवगत कराने के लिए भी निर्देशित किया । 

हॉस्टल की अव्यवस्थाओं पर भड़के शिवराज 

इससे पहले पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने हॉस्टल में छात्रों सही खाना, बिस्तर, मछर दानी और खेल का सामान नहीं मिलने पर नाराजगी जाहिर की। इस दौरान अधिकारियों के सामने ही छात्रों ने बताया कि स्टॉक में खेल का समान और मच्छरदानी होने के बाद भी उन्हें नहीं दिया जा रहा है। शिवराज सिंह चौहान ने चेतावनी दी है की अगर व्यवस्थाओं को नहीं सुधारा गया तो 25 नवंबर को एसडीएम कार्यालय में जनता की अदालत लगाएंगे।