सीहोर। अनुराग शर्मा। 

देश के जाने माने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की जिले में एकमात्र प्रतिमा जिला मुख्यालय पर लिसा टाकीज चोरहे पर स्थापित की गई है तब से लिसा टाकीज चोरहे का नाम बदलकर अटल चोक रखा गया। अटल चोक पर स्थापित अटल जी की प्रतिमा आज के नेताओ की नेतागिरी का शिकार हो गई जिस अटल चोक पर प्रतिमा स्थापित की गई है उसे चारो ओर से नेताओ के जन्मदिन व नेताओ के गुणगान करते पोस्टर ओर बैनरों ने प्रतिमा को ही लगभग विलुप्त से कट दिया है।

नगर के छुटभैये नेताओ को नेतागिरी का इतना शोक है कि वो सभी मान मर्यादा को भूलकर सार्वजनिक अटल चोरहे पर स्थापित अटल जी मूर्ति को भी नही बख्श रहे है। इस संबंध में नगर पालिका सहित अन्य शासकीय संस्थाओं व भाजपा नेताओं का रुख भी उदासीन रहा है उक्त सभी संस्थाओं सहित भाजपा नेताओं ने भी कभी इस ओर ध्यान नही दिया जिसके चलते अटल प्रतिमा के चारो ओर लगे पोस्टर बेनर ने अतिक्रमण कर अटल जी को चोरहे से विलुप्त सा कर दिया है।

वैसे अटल जी की जयंती या पुण्यतिथि पर ये ही नेता अपनी नेतागिरी चमकाने के लिए इन्ही अटल जी मूर्ति के समाने कई कार्यक्रम आयोजित कर अपने आपको अटल जी का परमभक्त सिद्ध करने में कोई कोर कसर नही छोड़ते, पर अपने कार्यक्रम के बाद भूल जाते है कि यहाँ अटल जी मूर्ति भी स्थापित है।