Sehore News : कान्हा की भक्ति में साध्वी बनी सुनीता, गीता का पाठ करने के बाद हाथों से निकलता है मक्खन

उनके हाथों में मक्खन खुद-ब-खुद आ जाता है। जिसे ग्रामीणों को प्रसाद के रुप में वह बांटती हैं। यह घटना किसी चमत्कार से कम नहीं। जिसे देखने के लिए लोग दूर-दूर से ग्राम मोलगा पहुंचते हैं।

sehore krishna news

सीहोर, अनुराग शर्मा। यूं तो हमने श्रीकृष्ण (Sri Krishna) और उनकी लीलाओं के कई किस्से सुने हैं। वहीं कृष्ण भक्ति में लीन कई लोगों को भी देखा है। ऐसी एक भक्त सीहोर जिले (Sehore District) गांव मोलगा मेरे आती है। जिनके ऊपर भगवान श्री कृष्ण की कृपा का एक अनोखा चमत्कार है। जिसे देख कर आपको यकीन नहीं होगा लेकिन यह सच्चाई है। जिले से 30 किमी दूर ग्राम मोलगा में रहनी वाली साध्वी सुनीता वर्मा जब सुबह भगवत गीता का पाठ करके उठती हैं, तो उनके हाथों में मक्खन खुद-ब-खुद आ जाता है। जिसे ग्रामीणों को प्रसाद के रुप में वह बांटती हैं। यह घटना किसी चमत्कार से कम नहीं। जिसे देखने के लिए लोग दूर-दूर से ग्राम मोलगा पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें…Jabalpur News: बिना लाइसेंस के संचालित हो रहा था हुक्का बार, कैफे संचालक गिरफ्तार

सुनीता वर्मा भगवान श्रीकृष्ण की अनन्य भक्त हैं। जो बचपन से श्री कृष्ण की पूजा करती हैं। कृष्ण भक्ति और हाथों से मक्खन आने के चलते विवाद के बाद वह कभी ससुराल नहीं गई और मायके में ही साध्वी बन राधा-कृष्ण मंदिर में भक्ति करती हैं। उनके अनुसार यह उनका पुनर्जन्म हैं और पिछले जन्म में वह भगवान कृष्ण की गोपी थी। सुनीता ने बताया कि बचपन में एक रात में भगवान कृष्ण सपने में आए और बताया कि तुम मेरी गोपी थी दूसरी गोपियां तुम से मक्खन छिनकर खा जाती थी इसलिए मक्खन का वरदान देता हूं। तभी से सुबह पूजा के बाद उनके हाथों में मक्खन आ जाता है। बतादें कि ग्राम में जन्माष्टी के दिन विशेष आयोजन किए जाते हैं जहां दूर-दूर से लोग साध्वी सुनीता के चमत्कार को देखने पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें…MP News: 2 हजार करोड़ रूपए का नया कर्ज लेगी शिवराज सरकार, नोटिफिकेशन जारी

सन् 1990 में सुनीता बाई का विवाह हो गया था। ग्राम नरेला तहसील हुजुर जिला भोपाल में सुनीता बाई के पति ओमप्रकाश वर्मा सीआरपीएफ में सैनिक थे। जो जम्मू कश्मीर में शहीद हो गए थे। सुनीता बाई एक किसान परिवार से है। जो मोलगा गांव मे अपने बड़े भाई पूर्व सरपंच चदंर सिह वर्मा के पास रहती है। और वही इनका पुरा खर्च उठाते है ,तीन भाई का सयुक्त परिवार है जो सब मिलकर रहते है इनके साथ ही सुनीता बाई रहती है। सुनीता बाई रोज सुबह नौ बजे कृष्ण भगवान की भक्ति में लीन हो जाती है और गीता का पाठ करती है। जिसके बाद उन्हें भगवान श्रीकृष्ण माखन देते है।