LIC कर्मचारियों का फूटा गुस्सा, सरकार की निजीकरण नीति के खिलाफ की नारेबाजी

अनुराग शर्मा/सीहोर। सरकार के निजीकरण नीति के खिलाफ LIC कर्मचारियों ने आज देश व्यापी अह्वान के तहत 1 घंटे की हड़ताल कर केंद्र सरकार की निजीकरण नीति के खिलाफ कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी की। LIC कर्मचारियों के हड़ताल के चलते करोड़ों रूपये का सरकारी बीमा कारोबार प्रभावित रहा। यूनियन के नेता राजीव गुप्ता ने कहा कि हम पूरे देश में सरकार के एलआईसी का आईपीओ लाने एवं शेयर बाजार में एलआईसी को लिस्ट करने के खिलाफ  हैं। सरकार से इस विरोधी कदम को तुरंत वापस लेने का आग्रह करते हैं। उन्होंने ये भी कहा ऐसा कोई भी सेक्टर नहीं होगा जहां पर भारतीय जीवन बीमा निगम ने मदद सहयोग और इन्वेस्ट नहीं किया हो अभी हाल ही में आईडीबीआई को बचाने के लिए एलआईसी को कहा गया। एलआईसी ने कितनी ही बार डूबते हुए शेयर मार्केट को बचाया है साथ ही पंचवर्षीय योजनाओं के माध्यम से अकूत पैसा देकर सरकार देश व जनता की तहे दिल से मदद की है एलआईसी का मुख्य स्लोगन है कि जनता का पैसा जनता के लिए सरकार के लिए यह आत्मघाती कदम है जब तक सरकार निर्णय वापस नहीं लेती हम संघर्ष करते रहेंगे। वहीं विकास अधिकारी संदीप द्विवेदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी पूरी विकास वाहिनी इस हड़ताल में शामिल है और सरकार के उक्त निर्णय का हम विरोध करते हैं सरकार एलआईसी के खिलाफ अपने इस निर्णय को तत्काल वापस लेना चाहिए।