‘गुमशुदा’ हैं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, चुनाव से पहले यहां लगे पोस्टर

-Sushma-Swaraj-'Missing'

सीहोर| लोकसभा चुनाव से पहले विदेश मंत्री और विदिशा संसदीय क्षेत्र से सांसद सुषमा स्वराज के गुमशुदगी के पोस्टर एक बार फिर चर्चा में है| पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में गुमशुदा वाले पोस्टर लगाए गए हैं| सालों से सांसद ने अपने क्षेत्र का दौरा नहीं किया है, जिसको लेकर विरोध जताया गया है| इससे पहले विदिशा में सुषमा के गुमशुदगी के पोस्टर कांग्रेस द्वारा लगाए गए थे| सीहोर में यह पोस्टर किसान कांग्रेस के नेता के नेतृत्व में लगाए गए हैं|

दरअसल, सीहोर जिले के इछावर में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के गुमशुदगी के पोस्टर लगाए गए हैं। जिला कांग्रेस किसान नेता हरगोविंद दरबार के नेतृत्व में यह पोस्टर लगाए गए हैं| किसान कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हरगोविंद सिंह ने बताया कि क्षेत्रीय सांसद सुषमा स्वराज ने लोकसभा चुनाव में क्षेत्र के लोगों से कई तरह से लुभाने वादे किए थे लेकिन उनका कोई पता नहीं है | क्षेत्र के लोग परेशान है लेकिन सांसद पिछले कई सालों से नजर नहीं आई, किसान कांग्रेस ने नगर के सभी क्षेत्रों में सांसद सुषमा स्वराज को ढूंढने के लिए गुमशुदा के पोस्टर नगर की दीवारों पर सांसद की गुमशुदगी के पोस्टर लगाए हैं|  हर गोविंद ने बताया कि किसान कांग्रेस विदिशा लोकसभा क्षेत्र में विकास खोजो यात्रा भी शीघ्र निकालने वाली है| इससे पहले हाल ही में रायसेन जिले में हर जगह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के गुमशुदा होने के पोस्टर लगाए गए थे| इन पोस्टरों पर ‘ना रेल मिली ना कारखान, सुषमा स्वराज लापता’ जैसी चीजें लिखी हुई थी|

सुषमा स्वाराज विदिशा संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं| लेकिन वह लम्बे समय से अपने क्षेत्र के दौरे पर नहीं आई| कई बार उनका मप्र आना हुआ| जबकि कुछ ही किलोमीटर दूर भोपाल से होकर दिल्ली लौट गई|  कई बार वह मप्र का दौरा कर चुकी हैं, लेकिन एक बार भी अपने संसदीय क्षेत्र में नहीं पहुंची| जिसको लेकर कई बार विरोध प्रदर्शन किया जा चूका है| अब जब लोकसभा चुनाव नजदीक है तो एक बार फिर इस मुद्दे पर राजनीति शुरू हो गई है| हालांकि मोदी सरकार में तेज तर्रार नेता के रूप में अपनी छवि कायम करने वाली केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी| पिछले दिनों ही उन्होंने इसका एलान किया था| जिसके बाद से इस सीट पर दिग्गज नेताओं की नजर है|  वहीं कांग्रेस भी इस बार यहां जीत के प्रयास में है| जिसके चलते कांग्रेस ने सांसद के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए भाजपा को घेरने की रणनीति बनाई है|