सीहोर में अनोखा तर्पण, कोरोना काल में मृत 350 लोगों की अस्थियों का गाजे-बाजे के साथ किया विर्सजन

इन अस्थियों को विधि-विधान के साथ आवली घाट पर एक वाहन में सजा कर ले जाया गया।

unique tarpan

सीहोर, अनुराग शर्मा। सीहोर (Sehore) में एक अनोखा तर्पण (Tarpana) देखने मिला। जो संभवतः मध्य प्रदेश के इतिहास का पहला मामला होगा। दरअसल कोरोना काल (corona pandemic) के दौरान मृत 350 लोगों की अस्थियों का संचय करने के बाद आज उन अस्थियों का विधि-विधान के एक साथ विसर्जन करने मुक्तिधाम समिति आवली घाट ले गई। और पूरे विधि विधान से उनका अस्थि विसर्जन किया गया।

यह भी पढ़ें…पुलिस मौजूदगी में तस्कर बाबू सिंधी ने बंदूक से काटा केक, अब एसपी ने तत्काल टीआई को किया लाइन अटैच

दरअसल, कोरोना काल के दौरान सीहोर में करीब 350 से अधिक लोगों की अस्थियां अपने परिजनों के इंतजार में लावारिस हालत में मुक्तिधाम में बिखरी अवस्था में पड़ी हुई थी। वहीं मुक्तिधाम समिति के लोगों ने काफी समय तक उनके परिजनों के आने का इंतजार किया। लेकिन वहां कोई भी नहीं आया जिसके बाद आज सभी अस्थियों का संचय कर समाज के सभी वर्गों के सहयोग से इन अस्थियों को विधि-विधान के साथ आवली घाट पर एक वाहन में सजा कर ले जाया गया। बता दें कि सजी हुई अस्थियां नगर के प्रमुख मार्गों से जुलूस के रूप में धूमधाम से निकाली गई। इस दौरान अनेकों लोग और समाजसेवी संस्थाओं ने सभी मृत लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की।