नगरीय निकाय चुनाव: आरक्षण के बाद तेज हुई सियासत, उम्मीदवारी पर चर्चाओं का बाजार गर्म

सीहोर, अनुराग शर्मा। प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव का आगाज अध्यक्षता आरक्षण के बाद से माना जा रहा है। जिले में दो नगर पालिका और साथ नगर परिषदों का आरक्षण भी सामने आ गया है। आरक्षण होते ही नगर पालिका का मुखिया बनने की हो होड शुरू हो गई है। अब ऊंट किस करवट बैठेगा यह तो कोई नहीं कहा जा सकता पर सियासी हलचल तेज हो गई है।

गौरतलब है कि जिले में सीहोर और आष्टा में 2 मिनट पर नगर पालिका है। इसके अलावा बुधनी नसरुल्लागंज बेटी सहागंज कोठीरी इस आवर जावर नगर परिषदों में भी आरक्षण की प्रक्रिया के बाद से ही माहौल गरम हो रहा है। हो सकते है संभावित उम्मीदवार नसीबो नगरपालिका के सामान्य खाते में है। ऐसे में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही प्रमुख दलों से भावी उम्मीदवारों की चर्चा चौक चौराहे पर जोर पकड़ने लगी है।

Read More: कांग्रेस नेता की मौत मामले में हमीदिया अस्पताल प्रबंधन को मिली क्लीनचिट

नगरीय निकाय चुनाव में जनता के हवाले से माने तो भाजपा की तरफ से पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष जसपाल सिंह अरोरा और पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष सीताराम यादव युवा नेता प्रिंस राठौर राजकुमार गुप्ता प्रमुख तौर पर बताए जा रहे हैं। इसके साथ ही कांग्रेस में पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राकेश राय और युवा नेता राजीव गुजराती विवेक राठौर के नाम सामने आ रहे हैं।

युवाओं पर लग सकता है दांव

नगर पालिका चुनाव में जहां वार्डों में चुनाव लड़ने के लिए युवाओं में उत्साह देखा जा रहा है। ऐसे ही सियासी जानकारी की मानें तो जिले में अध्यक्ष पद के लिए युवाओं पर दांव लगाया जा सकता है। यदि कोई कद्दावर नेता टिकट की कतार में है। उनकी अनदेखी कर युवाओं पर दांव लगाया तो भितरघात की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।