जीवित महिला को घोषित किया मृत, योजनाओं का लाभ भी मिलना बंद

सिवनी 

जिले की घँसौर जनपद अंतर्गत बालपुर ग्राम पंचायत की हैरान कर देने वाली लापरवाही सामने आई है। ग्राम पंचायत ने तिंसा गांव के एक जीवित आदिवासी बुजुर्ग रामलाल परते को तीन साल पहले समग्र पोर्टल में मृत घोषित कर दिया था। जिसका खुलासा तीन महीने पहले हुआ है। 

पीड़ित के मुताबिक उनको भी यह हैरान कर देने वाली जानकारी तीन महीने पहले पता चली जब उनके परिवार को अचानक योजनाओं का लाभ मिलना बंद हो गया। जब परिवार ग्राम पंचायत पहुंचा तो उनके होश उड़ गए। ग्राम पंचायत ने परिवार के मुखिया रामलाल को वर्ष 2016 में समग्र पोर्टल में मृत घोषित कर दिया है। जिस वजह से परिवार को गरीबी रेखा के नीचे आने वाले परिवार को मिलने वाली तमाम योजनाओं का लाभ मिलना बंद हो गया है।

 ग्राम पंचायत की लापरवाही के कारण योजनाओं से वंचित हुआ आदिवासी परिवार पिछले तीन महीने से परिवार के मुखिया रामलाल परते को जिंदा साबित करने और समग्र पोर्टल में दर्ज खामी को सुधराने के लिए दफ्तरों के चक्कर काट रहा है। लेकिन किसी ने भी इस परिवार की परेशानी दूर करने की कोशिश नही की है। वही घँसौर जनपद सीईओ को मामले से रूबरू कराने पर सीईओ ने मामले की जांच का आश्वासन दिया है.