जल्दी ही होगा ई-पत्रिका हिंदी की कविता का शुभारंभ: डॉ. प्रियंका त्रिपाठी

शहडोल।
मध्यप्रदेश के शहडोल जिले की वरिष्ठ साहित्यकारा डॉ. प्रियंका त्रिपाठी की हिन्दी की कविताओं का अब ई-पत्रिका में शुभारंभ होने जा रहा है।लॉक डाउन में उनकी कविताओं को अब ई-पत्रिका के माध्यम से भी पढ़ सकते है।यह नई पहल है जो पाठकों के लिए काफी सही साबित होगी।

इस पर ज्यादा जानकारी देते हुए डॉ. प्रियंका त्रिपाठी ने बताया कि जन सामान्य तक आसानी से कविताओं का प्रचार-प्रसार हो सके इसके लिए शीघ्र ही वेबसाइट के माध्यम से हिंदी की कविता नाम से ई-पत्रिका का शुभारंभ किया जा रहा है। इस की अवधारणा डॉ.अशोक कुमार पटेल “प्रियम” जो एक उम्दा कहानीकार एवं साहित्यकार हैं उन्होंने रखी है… पत्रिका को त्रैमासिक ऑनलाइन प्रकाशित किया जाएगा ।इसके पश्चात किसी ख्याति लब्ध प्रकाशक से चार अंको को समाहित करते हुए वार्षिक काव्य संग्रह भी निकाला जाएगा ।

त्रिपाठी ने बताया कि इसकी अवधारणा यह सोच कर रखी गई थी हिंदी कविता की नई विधाओं को एक नया मंच मिल सके साथ ही नए कवि उभरकर जनसामान्य तक पहुँच सके उनको एक मंच मिले जहाँ पर वो अपनी लेखनी की क्षमता को सिद्ध कर सकें। साथ ही रचनाओं की भावनाओं को व्यक्त करते हुए रेखा चित्र या चित्र इस पत्रिका के मुख्य आकर्षण के बिंदु होंगे ।

वही डॉ.अशोक ने बताया कि वेबसाइट निर्माण की समस्त प्रक्रियाएँ पूर्ण कर ली गई हैं । इस ई-पत्रिका की संपादिक डॉ.प्रियंका त्रिपाठी होंगी जिनके संपादन में रचनाकारों से रचनाएँ आमंत्रित की जा रही हैं शीघ्र ही इसका त्रैमासिक अंक ऑनलाइन प्रकाशित किया जाएगा ।