BJP को बड़ी राहत, इस सांसद ने निर्दलीय चुनाव लड़ने से किया इंकार, बताई ये वजह

Shahdol-MP-Gyan-Singh-has-refused-to-contest-an-independent-election-in-madhy-pradesh

भोपाल।

टिकट कटने से नाराज शहडोल बीजेपी सांसद ज्ञान सिंह ने निर्दलीय चुनाव लड़ने पर यू-टर्न ले लिया है। सांसद ने चुनाव लड़ने से अब इंकार कर दिया है। पैसों की कमी के चलते उन्होंने चुनाव ना लड़ने की बात कही है। हालांकि उन्होंने उम्मीदवार हिमाद्री सिंह का समर्थन और वोट मांगने से इंकार कर दिया है।  बता दे कि बीते दिनों उन्होंने टिकट काटने पर बगावत तेवर दिखाते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया था, इसके लिए उन्होंने नामांकन फॉर्म भी खरीद लिया था, लेकिन ऐन मौके पर पलट गए।

दरअसल, बीजेपी ने 21  सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है और इस बार कई सीटों पर सांसदों के टिकट काटे है। इनमें एक नाम शहडोल सांसद ज्ञान सिंह का भी शामिल है। पार्टी ने इस बार ज्ञान सिंह का टिकट काटकर हाल ही में कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुई हिमाद्री सिंह को दिया है। हिमाद्री का नाम का ऐलान होते ही ज्ञान सिंह नाराज हो गए थे और  बीजेपी पर टिकट बेचने जैसे कई गंभीर आरोप लगाना शुरु कर दिए थे।इसके बाद पार्टी में हड़कंप मच गया था।हाईकमान ने उन्हें मनाने को कहा लेकिन वे अपनी बात पर ही अडिग रहे और निर्दलीय चुनाव लडने के संकेत दे दिए। नाराजगी बढ़ती देख पार्टी ने उन्होंने मनाने का जिम्मा पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज को सौंपा । शिवराज ने उन्हें आश्वासन दिया कि वे पार्टी से इस संबध मे बात करेंगें और टिकट पर फिर से विचार किया जाएगा। इसी बीच पार्टी, संगठन और संघ ने विधायक बेटे शिवनारायण सिंह पर भी पिता को मनाने का दबाव बनाया है। लेकिन ज्ञान सिंह नही माने और उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया।

दो दिन पहले ज्ञान सिंह ने नामांकन फॉर्म खरीद कर सबको चौंका दिया। साथ ही उन्होंने एक बयान भी दिया। उन्होंने कहा कि जिंदा मक्खी नहीं निगल सकते। पार्टी ने प्रत्याशी नहीं बदला तो प्रचार नहीं करूंगा। इससे तो अच्छा है मर जाऊं। ज्ञान सिंह के बयान के बाद फिर पार्टी में खलबली मच गई और प्रदेश के नेताओं पर उन्हें मनाने का दबाव बनाया जाने लगा और आखिरकार वे मान गए और उन्होंने अपने कदम पीछे हटा लिए। हालांकि उन्होंने यह बात खुलकर नही कही है। उनका कहना है कि पैसों के अभाव के कारण वे चुनाव नही लड़ रहे है।

हिमाद्री को समर्थन देने से किया इंकार

 सांसद ज्ञान सिंह ने बताया कि  रुपयों की कमी के कारण वे चुनाव नहीं लड़ रहे है। भाजपा संगठन या नेताओं से उनकी इस संबंध में कोई बात नहीं हुई है। यह उनका निजी फैसला है। ज्ञान सिंह ने कहा कि मैंने संसदीय क्षेत्र में दौरा करके कुछ नेताओं और कार्यकर्ताओं से आर्थिक मदद भी मांगी थी, लेकिन पर्याप्त सहयोग नहीं मिला। ज्ञान सिंह ने स्पष्ट किया कि वे भाजपा की उम्मीदवार हिमाद्री सिंह का समर्थन नहीं करेंगे और न ही उनके लिए क्षेत्र में वोट मांगेंगे।हालांकि उनके इस बयान से साफ जाहिर है कि उन्होंने नाम तो वापस ले लिया है लेकिन नाराजगी अब भी दूर नही हो पाई है। ज्ञान सिंह के इस फैसले से भाजपा नेताओं ने राहत की सांस ली है।