लापरवाही बरतने पर गिरी गाज, दो अध्यापक समेत पंचायत सचिव निलंबित

after-the-negligence-of-the-

कालापीपल/शाजापुर। 

राज्य सरकार के कार्यक्रम ‘‘सरकार आपके द्वार“ में लापरवाही बरतने पर दो अध्यापकों एवं एक पंचायत सचिव को निलंबित किया गया है। शाजापुर कलेक्टर डॉ. वीरेन्द्र सिंह रावत 2 अध्यापकों एवं जिला पंचायत सीईओ क्षितिज सिंघल ने एक ग्राम पंचायत सचिव पर निलंबन की कार्रवाई की है।

आपको बता दें कि ‘‘सरकार आपके द्वार‘‘ कार्यक्रम के तहत 21 जून को कालापीपल तहसील अंतर्गत ग्राम पंचायत लसुडलियामलक में रात्रि चौपाल का आयोजन किया गया था, जिसमें ग्राम पंचायत के नोडल अधिकारी व हाईस्कूल कमालपुर के अध्यापक तुलसीराम कुशवाह अनुपस्थित रहे थे। इसी तरह ग्राम पंचायत राघोखेड़ी में रात्रि चौपाल में ग्राम पंचायत के नोडल अधिकारी व शासकीय हाईस्कूल चायनी के अध्यापक धीरेन्द्र दामड़िया भी अनुपस्थित रहे। दोनों अध्यापकों पर कलेक्टर ने पदेन कत्तव्यों में लापरवाही करने पर निलंबन की कार्रवाई की है। निलंबन अवधि में दोनों ही निलंबित अध्यापकों का मुख्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, कार्यालय विकासखण्ड कालापीपल रहेगा। इन्हे निलंबन काल में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता प्राप्त करने की पात्रता रहेगी। 

इसी तरह जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी क्षितिज सिंघल ने जनपद पंचायत कालापीपल की ग्राम पंचायत राघोखेड़ी के सचिव भगवानसिंह मीणा को रात्रि चौपाल में बिजली, पानी की समुचित व्यवस्था नहीं करने एवं ग्रामीणों को रात्रि चौपाल की सूचना नहीं दिये जाने के लिए तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निलंबित अवधि में भगवानसिंह मीणा का मुख्यालय जनपद पंचायत कालापीपल रहेगा। ग्राम पंचायत राघोखेड़ी के सचिव का अतिरिक्त प्रभार ग्राम पंचायत राघोखेड़ी के ग्राम रोजगार सहायक को सौंपा गया है।