अंतर्राष्ट्रीय कान्फ्रेन्स में पाटीदार करेंगे शोध पत्र का वाचन

teacher-will-read-paper-in-international-conference-

शाजापुर : सोहन दीक्षित।

उत्कृष्ट विद्यालय शाजापुर में कार्यरत उच्च माध्यमिक शिक्षक ओम प्रकाश पाटीदार भोपाल के क्षैत्रिय शिक्षा संस्थान में 6 से 8 फरवरी तक आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में अपने शोधपत्र ‘विज्ञान सीखने में आई.सी.टी. एवं टेलीविजन की भूमिका” का वाचन करेंगे। यह सम्मेलन राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एन.सी.ई.आर.टी.) द्वारा कामनवेल्थ एजुकेशनल मिडिया सेन्टर फार एशिया तथा मध्यप्रदेश  विज्ञान एवं प्राद्योगिकी परिषद् भोपाल द्वारा किया जा रहा है।

यह अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में दुनिया भर में स्कूली शिक्षा से जुड़े शिक्षाविदो विशेष रूप से विज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वालों को, उनके शोध, अनुभव और नवीन प्रवृत्तियो को साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करने के मुख्य उदेश्य के साथ साथ स्कूली विज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में अपने अभिनव प्रथाओं और शोधों को साझा करने के लिए विज्ञान शिक्षकों तथा शिक्षाविदो को अवसर प्रदान करना, विभिन्न देशों में स्कूली विज्ञान शिक्षा की वर्तमान प्रथाओं में उत्कृष्टता और नवाचारों को बढ़ावा देकर विकसित और विकासशील देशों में स्कूली विज्ञान के शोधों में उभरते रुझानों के बारे में समझ को बढ़ावा देने तथा दुनिया भर में विज्ञान शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए सहयोगी प्रयासों को प्रोत्साहित करने के उदेश्य के लिए आयोजित किया जाता है।

इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन में चयनित शिक्षाविदों द्वारा लिखे शौध पत्रों का वाचन किया जावेगा इन शौध पत्रों एवं सम्मलेन में आयोजित संगोष्टी-परिचर्चाओ से निकले बिन्दुओ के आधार पर पाठ्यक्रम को डिजाइन करने और गुणवत्तापूर्ण विज्ञान शिक्षा के लिए शैक्षणिक सुधार लाने सम्बंधित योजनाये बनायीं जा सकेगी।

इस सम्मलेन के लिए भारत सहित विभिन्न देशो के विद्यालयों, शिक्षा महा विद्यालयों,विश्व विद्यालयों में कार्यरत शिक्षाविदो एवं शौधार्थियो से ”स्कूली विज्ञान शिक्षा में नवाचार एवं उभरती प्रवृत्तियां” विषय पर शौधपत्र आमंत्रित किये गए थे। दुनिया भर के देशो से प्राप्त शौधपत्रो में से चयनित शौधपत्रो का वाचन इस सम्मलेन में किया जावेगा। इससे पूर्व पाटीदार को दिसम्बर माह में अहमेदाबाद में आयोजित 9 राष्ट्रीय शिक्षक विज्ञान कांग्रेस में शौधपत्र वाचन के लिए आमंत्रित किया गया था।