शिवपुरी, मोनू प्रधान| हेलो.. एसडीओपी बोल रहे है… मैं जय विलास पैलेस (JaiVilas Palace) सिंधिया हाउस से बोल रहा हु, महाराज सिंधिया नाराज हो रहे हैं, आप धनंजय शर्मा की जमीन मामले में तुरंत मदद करें| कुछ इस तरह एक कॉल कोलारस एसडीओपी (Kolaras SDOP) के पास पहुंचा| एसडीओपी ने जब इस मामले की पड़ताल की तो यह फ़ोन फर्जी निकला| कॉल करने वाले धनंजय शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है| ख़ास बात यह है कि यह धनंजय शर्मा सिंधिया समर्थक है, जो सेवादल कांग्रेस का पूर्व में जिलाध्यक्ष रह चुका है।

दरअसल, जिले के कोलारस एसडीओपी अमरनाथ वर्मा को राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के जयविलास पैलेसे से फोन कर एक मामला देखने के लिए फोन करने वाले आरोपी को पुलिस ने पकड़ लिया है। कोलारस एसडीओपी को ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम पर फोन कर जमीन का एक मामला निपटाने की बात इस आरोपी युवक ने कही। एसडीओपी को मामला संदिग्ध लगने पर जब पतासाजी की गई तो फोन लगाने वाला युवक कूडा जागीर का धनंजय शर्मा निकला| जो सेवादल कांग्रेस का पूर्व में जिलाध्यक्ष रह चुका है। पुलिस ने आरोपी युवक धनंजय शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है और इस मामले में इस युवक सहित दो अन्य लोगों पर विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया है।

कोलारस टीआई संजय मिश्रा ने बताया कि कोलारस एसडीओपी अमरनाथ वर्मा को युवक धनंजय शर्मा ने अपने आपको जयविलास से फोन करना बताते हुए एक जमीन संबंधी मामला निपटाने में सहयोग की बात कही। मामला संदिग्ध लगने पर एसडीओपी ने पूरी बात पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल को बताई। एसपी ने जब इस मामले में ज्योतिरादित्य सिंधिया के जनसंपर्क कार्यालय और उनके अधीनस्थ स्टाफ से बात कर पड़ताल की तो उनके यहां से इस तरह से किसी भी प्रकार के फोन करने से इंकार किया गया। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच की तो यह मोबाइल नंबर जिससे फोन किया गया था वह एक कारीगर का निकला जिसे धनंजय शर्मा कूडा जागीर ने उपयोग किया था। पुलिस ने इस युवक धनंजय शर्मा को उठाया और पूछताछ की तो मामला खुल गया। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज आरोपी युवक को पकड़ लिया है। ऐसा बताया जा रहा है कि आरोपी ने कई बड़े अधिकारियों को इसी तरह के फर्जी कॉल किये थे ।