बिजली विभाग की मनमानी : बीजेपी विधायक की चेतावनी, वरिष्ठ नेता ने बताया तुगलकी फरमान

गांव की बिजली काट देना और आधे क्षेत्र को अंधेरे में डुबो देना सिवाय मनमानी के कुछ नहीं।

शिवपुरी,डेस्क रिपोर्ट। शिवपुरी (Shivpuri) जिले के कोलारस में लगभग 60 गांव की बिजली अचानक काट दी गई है। बिजली काटने की वजह लोगों के द्वारा बिल जमा न करना बताया जा रहा है। इसे लेकर जहां बीजेपी विधायक ने बिजली विभाग को चेतावनी दी है वहीं बीजेपी के नेता ने इसे तुगलकी फरमान बताया है।

यह भी पढ़े…सोशल मीडिया पर वायरल हुआ पानी वाला गरबा, वीडियो देख यूजर्स ने दिए ऐसे रिएक्शन

नवदुर्गा शुरू होने को है लेकिन शिवपुरी जिले के कोलारस क्षेत्र के कई गांव में अंधेरा छा गया है। मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी ने इस क्षेत्र में लगभग 60 गांव की बिजली काट दी है। इनमें चकरा, चंदोरिया, डेहरबारा, मोहरा, मोहराई, राजगढ़, पाली, तेंदुआ, बेहटा, पढोरा, रामपुर, रिझारी, राई, रामराई प्रमुख हैं। विद्युत विभाग द्वारा इसकी वजह लोगों के द्वारा बिजली बिल जमा न किया जाना बताया गया है।

बिजली विभाग की मनमानी : बीजेपी विधायक की चेतावनी, वरिष्ठ नेता ने बताया तुगलकी फरमान

यह भी पढ़े…Sehore news : रिश्वत लेते पटवारी का वीडियो हुआ वायरल, शिकायत मिलने पर SDM ने किया निलंबित

बिजली विभाग द्वारा बिना जनप्रतिनिधियों को विश्वास में लिए उठाए गए इस कदम को लेकर बीजेपी नेताओं की त्योरिया चढ गई है। प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य सुरेंद्र शर्मा ने इसे तुगलकी फरमान बताया है और लिखा है कि विद्युत विभाग के अधिकारीयो की मूर्खता से कोलारस के साठ गांव अंधेरे में है। लाइट तुरंत चालू हो। वहीं बीजेपी विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने क्षेत्र के लोगों के साथ किए जा रहे इस अन्याय को लेकर रोष जताया है। थोड़ी देर पहले उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट डाल कर विद्युत विभाग को चेतावनी दी है कि गांव-गांव वसूली के कैंप लगाकर फसल आने तक रूकिये। मनमानी मत कीजिए। फसल आने पर वसूली हो जाएगी। तत्काल बिजली सप्लाई कीजिए। लोगों को सड़क पर आने के लिए मजबूर मत कीजिए।

बिजली विभाग की मनमानी : बीजेपी विधायक की चेतावनी, वरिष्ठ नेता ने बताया तुगलकी फरमान

यह भी पढ़े…सर्वपितृ अमावस्या कल, बन रहें खास संयोग, करें ये खास उपाय, खुल जाएगा बंद किस्मत का ताला, यहाँ जानें

विधायक ने यह भी लिखा है कि बिल वसूली लोग इसलिए भी जमा नहीं कर रहे हैं क्योंकि बिल अधिक आ रहे हैं और इसके संशोधन के लिए शिविर लगाना जरूरी है। हालांकि बिजली विभाग के किसी अधिकारी ने फोन लगाने के बाद भी फोन नहीं उठाया। लेकिन जाहिर सी बात है कि इस तरह से अचानक गांव की बिजली काट देना और आधे क्षेत्र को अंधेरे में डुबो देना सिवाय मनमानी के कुछ नहीं।