रेलमंत्री से मिले सिंधिया, ग्वालियर-चंबल की रेल संबंधित विषयों पर की चर्चा, इन मांगों पर मिली मंजूरी

केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने रेल मंत्री पियूष से मिलकर ग्वालियर-चंबल अंचल की रेल से संबंधित विषयों पर चर्चा करके समाधान की मांग की।

mp news

शिवपुरी, मोनू प्रधान। भारत सरकार के नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने गुरूवार को रेलमंत्री अश्वनी वैष्णव (Railway Minister Ashwani Vaishnav) से मुलाकात की। जिसमें ग्वालियर-चंबल अंचल की रेल से संबंधित लंबित विविध मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की और उनके त्वरित समाधान का अनुरोध किया। जिसपर रेल मंत्री वैष्णव ने मंत्री सिंधिया को आश्वश्त किया है कि उनके द्वारा रखी गई सभी मांगों का प्राथमिकता से समाधान किया जाएगा। जिसके लिए सिंधिया ने रेल मंत्री का आभार व्यक्त किया।

यह भी पढ़ें…Video : भुजरिया पर जमकर झूमे सजे-धजे किन्नर, कोरोना से मुक्ति की दुआ

सिंधिया ने उक्त महत्वपूर्ण मुद्दों पर रेलमंत्री से चर्चा की और रेल मंत्री वैष्णव ने संबंधित रेल अधिकारियों को इनके त्वरित समाधान के निर्देश प्रदान किए। 250 करोड़ की लागत से इंडियन रेलवे स्टेशन डब्लपमेंट कारपोरेशन द्वारा ग्वालियर रेलवे स्टेशन के विकास व विस्तार के लिए 23 जून 2021 को प्रस्ताव प्रस्तुत किया जा चुका है, इसकी स्वीकृति प्रदान की जाकर कार्य प्रारंभ किया जाए। जिसपर रेल मंत्री ने अक्टूबर माह तक टेंडर आमंत्रित कराने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं। दिल्ली एवं ग्वालियर के मध्य वंदे भारत ट्रेन का संचालन किया जाये जिसको लेकर रेलमंत्री ने सहमति प्रदान कर दी है यह ट्रेन अन्य वन्दे भारत ट्रेनों के साथ अक्टूबर-दिसंबर 2022 के मध्य शुरू हो जायेगी। ग्वालियर चंबल अंचल के विकास के लिए अति महत्वपूर्ण ग्वालियर- श्योपुर रेलखंड जिसका गेज परिवर्तन किया जा रहा है, के लिए प्रर्याप्त बजट की स्वीकृति प्रदान की जाए, ताकि कार्य तेजी से संचालित होकर शीघ्र पूर्ण हो सके। जिसके लिए रेलमंत्री ने बजट में बढ़ोतरी के साथ साथ इसको शीघ्र कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए गए। ग्वालियर-गुना मक्सी रेलखंड जिसकी लंबाई 400 किमी है, जिसके ट्रेक के दोहरीकरण के सर्वे का प्रस्ताव 2012-13 में स्वीकृत हुआ एवं जिसकी रिपोर्ट 2017 में रेल विभाग को मिल चुकी है एवं दोहरीकरण की स्वीकृति के लिए लंबित है, इस प्रस्ताव को मंजूरी दी जाए, उक्त कार्य के लिए कुल 2,822 करोड़ के बजट की आवश्यकता है। रेलमंत्री ने इस प्रस्ताव का परीक्षण कराने व अभी पहले वर्तमान सिंगल ट्रैक पर सिग्नलिंग कार्य करना प्रस्तावित किया है, जिससे अभी चल रही ट्रेनों की 30 से 40 प्रतिशत तक गति बढ़ाई जा सके। गुना- विजयपुर रेलखंड पर गुना- बमौरी मार्ग पर महूगढ़ा रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ओवर ब्रिज की स्वीकृति अत्यंत आवश्यक है। उक्त मार्ग पर अधिकांश समय जाम की स्थिति रहती है, क्योंकि उक्त रेलखंड पर गुना- बीना एवं गुना- मक्सी दोनों रेलखंड की ट्रेनें गुजरती हैं। इस क्रॉसिंग पर शीघ्र सितम्बर / अक्टूबर माह तक रेल्वे अंडरब्रिज का कार्य शुरू कराने के निर्देश रेलमंत्री ने दिए।

रेलमंत्री से मिले सिंधिया, ग्वालियर-चंबल की रेल संबंधित विषयों पर की चर्चा, इन मांगों पर मिली मंजूरी

ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर उक्त चार ट्रेनों का ठहराव अत्यंत आवश्यक है, जिसकी स्वीकृति प्रदान किया जाना जरूरी है। लोकमान्य तिलक ट्रमिनल- हरिद्धार सुपर फास्ट 02171-02172 एवं हजरत निजामुददीन यशवंतपुर सुपर फास्ट एक्सप्रेस 02630-02629 एवं हजरत निजामुददीन त्रिरूपति एक्सप्रेस 02782-02781 एवं हजरत निजामुददीन- सिंगरौली एक्सप्रेस सुपरफास्ट 22168-22167 चूँकि ग्वालियर स्टेशन पर पूर्व से ही क्षमता से अधिक ट्रेन रूक रहीं हैं फिर भी सिंधिया के अनुरोध पर रेलमंत्री ने हजरत निजामुददीन/ त्रिरूपति एक्सप्रेस 02782-02781 रोकने के निर्देश दिए, जिससे ग्वालियर के लोगों को तिरुपति बालाजी जाने के लिए सीधी ट्रेन सुविधा मिल सके। वहीं गुना जिले के म्याना रेलवे स्टेशन पर ग्वालियर- इंदौर इंटरसिटी ट्रेन 1125-11126 का ठहराव पर भीरेलमंत्री ने मंज़ूरी प्रदान कर दी। वहीं अशोकनगर जिले के पिपरई रेलवे स्टेशन पर साबरमती एक्सप्रेस एवं जोधपुर भोपाल एक्सप्रेस का ठहराव पर भीरेलमंत्री ने साबरमती ट्रेन के ठहराव को मंज़ूरी प्रदान कर दी।

शिवपुरी जिले के बदरवास रेलवे स्टेशन से संबंधित उक्त मांगे जैसे भिंड- इंदौर इंटरसिटी एक्सप्रेस, ग्वालियर- इंदौर एक्सप्रेस, ग्वालियर- भोपाल इंटरसिटी एक्सप्रेस का ठहराव बदरवास स्टेशन पर किया जाए। कोविड कॉल के पूर्व इन ट्रेनों का ठहराव रेलमंत्री ने ग्वालियर-भोपाल ट्रेन के ठहराव को मंज़ूरी प्रदान कर दी। ग्वालियर- दमोह एवं कोटा- इटावा ट्रेन का संचालन पुनः प्रारंभ किया जाए, उक्त ट्रेनें कोविड काल में बंद हो गईं थीं। जिसके लिए शीघ्र शुरू कराने के निर्देश दिए गए। इंदौर- देहरादून, झांसी- बांद्रा एक्सप्रेस एवं इंदौर- चंडीगढ़ का ठहराव बदरवास स्टेशन पर के लिए रेलमंत्री ने इंदौर-चंडीगढ़ ट्रेन के ठहराव को मंज़ूरी प्रदान कर दी है।

पूर्व में स्वीकृत बदरवास स्टेशन के विकास कार्यों को पुनः प्रारंभ किया जाए।जिसपर प्लेटफार्म की लम्बाई व ऊँचाई बढ़ाने का निर्माण कार्य शीघ्र कराने के निर्देश माननीय रेलमंत्री ने दिए। सिंधिया ने विश्वास व्यक्त किया है कि उक्त योजनाओं के पूर्ण होने से ग्वालियर-चंबल अंचल में विकास एवं प्रगति को गति मिल सकेगी। रेल आर्थिक विकास के पहिए को संचालित करने के लिए एक महत्वपूर्ण धुरी है। एक तरफ हम जहां हवाई सेवाओं के विस्तार के लिए प्रयासरत हैं वहीं दूसरी तरफ सड़क एवं रेल से संबंधित सेवाओं के विस्तार एवं विकास के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में समग्र विकास हो, यही हमारा ध्येय है।

यह भी पढ़ें… आईएएस अधिकारी ठगी का शिकार, ऑनलाइन वाइन खरीदी में खाते से निकले रुपये