Shivpuri News : रिटायर्ड फौजी के अंधे कत्ल का हुआ खुलासा, पुलिस ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार, दो अन्य साथी फरार

अब पुलिस मृतक फौजी का मोबाईल ढूढ़ने की कोशिश कर रही है।

शिवपुरी,शिवम पांडेय। मध्यप्रदेश के शिवपुरी (shivpuri) जिले की बामोरकलां थाना पुलिस ने रिटायर्ड फौजी ब्रज मोहन तिवारी के अंधे कत्ल का खुलासा कर दिया है, पुलिस ने इस मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि दो अभी फरार हैं।

यह भी पढ़े…RRB NTPC Exam 2022 : रेलवे प्रबंधन का फैसला, चलेगी परीक्षा स्पेशल ट्रेन

शिवपुरी पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल ने बामोरकला में हुए रिटायर्ड फौजी के अंधे कत्ल का पर्दाफाश करते हुए बताया है कि खनियाधाना के बामौरकलां थाना अंतर्गत ग्राम रिजौदी के पास झलकुई के जंगल में 5 जून को एक खेत में बने कुएं में कारगिल युद्ध लडने वाले रिटायर्ड फौजी की लाश मिली थी। फौजी की हत्या उसके दोस्त ने अपने साथियों के साथ मिलकर की है और दफीने (जमीन में दबा हुआ धन) का लालच देकर वह उसे ले गया थे, बाद में उसके ही घर में घुसकर चोरी की वारदात को अंजाम दिया।

यह भी पढ़े…Sarkari Naukari: एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में ग्रेजुएट पास युवाओं के लिए निकली 400 पदों पर भर्ती

पुलिस के अनुसार हत्या की यह पूरी वारदात चोरी करने की मंशा से अंजाम दी गई है। इस हत्याकांड के मास्टर माइंड मृतक बृजमोहन शर्मा के दोस्त रामवीर यादव का मृतक के घर आना जाना था। रामवीर को यह भी पता था कि बृजमोहन के पास खूब पैसा और सोने-चांदी के जेबर हैं। इसी के चलते उसने अपने साथी केपी यादव, तेजपाल यादव और दो अन्य साथियों के साथ मिलकर दोस्त को दगा देकर दफीना खोदने के बहाने उसको झलकुई के जंगल मे बुलाया और उसकी हत्या करने का षड़यंत्र रचा, 1 जून को बृजमोहन को फोन किया और कहा कि खेत पर गढा धन निकाल रहे हैं आप आ जाओ। बाइक से ब्रजमोहन खेत पर पहुंचा तो रामवीर यादव ने अपनी साथियो के साथ मिलकर बृजमोहन की गला दबाकर हत्या कर दी।

यह भी पढ़े…Menstrual Leave पर MP Breaking News की वीमेन पॉलिटेक्निक गवर्नमेंट कॉलेज की महिलाओं के साथ खास चर्चा, व्यापकता से इस विषय को उठाने की अपील

इसके बाद दोनों पैर तोलिया से बांध दिए। रस्सी के सहारे सीने से बडा पत्थर बांधकर कुएं में लाश को फेंक दिया। लाश पर पत्थर बंधा होने के कारण लाश 4 दिन बाद ही पानी के ऊपर आ गई हत्या करने के बाद फौजी के घर जाकर चोरी की वारदात को अंजाम दिया। बताया जा रहा है कि बृजमोहन और भैय्या साहब में आपस में तनातनी रहती थी। ऐसे में बृजमोहन की हत्या का संदेह भैय्या साहब की तरफ मोड़ने की मंशा से लाश को उसी के खेत में बने कुएं में ठिकाने लगाया गया।

यह भी पढ़े…आदिवासी युवक ने पूछा शराब का सही दाम तो कर दी पिटाई

ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि कुछ समय बाद लाश जब मिलेगी तो फौजी के स्वजन उसी पर हत्या का आरोप लगाएंगे फौजी की हत्या का सबूत मिटाने के लिए रामवीर यादव ने फौजी के घर में चोरी करने के बाद उसकी बाइक को खनियाधाना ले जाकर बुधना डेम में फेंक दिया ताकि पुलिस या कोई अन्य व्यक्ति इस बाइक को कभी तलाश भी न पाए। पुलिस की पूछताछ में रामवीर ने यह राज भी उगल दिया और मंगलवार को उक्त बाइक भी बुधना डेम में से बरामद कर ली अब पुलिस मृतक फौजी का मोबाईल ढूढ़ने की कोशिश कर रही है।