Shivpuri news: सहकारी बैंक में 80 करोड रूपये के घोटाले का इनामी आरोपी गिरफ्तार, करोडों की संपत्ति का खुलासा 

सहकारी बैंक में 80 करोड़ का गबन करने वाला अपने साथियों के साथ गिरफ्तार।

शिवपुरी, शिवम पांडेय। शिवपुरी पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए कोलारस की सहकारी बैंक में 80 करोड़ का घोटाला करने वाले मुख्य आरोपित भृत्य पाराशर को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने संस्कार सिटी वृंदावन मथुरा से मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया। पुलिस ने इसके अलावा दो अन्य आरोपित पिंकी व उसके भाई को भी गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया है।
सहकारी बैंक शाखा कोलारस तथा फरियादी मुकेश जैन उपआयुक्‍त जिला सहकारिता जिला शिवपुरी ने अपने 15 बैंक कर्मचारी/अधिकारियों एवं अन्‍य के विरूद्ध 80 करोड़ 56 लाख 21 हजार 342 रुपये की शासकीय राशि का गबन करने का आरोप लगाया था।

यहां भी देखें- Sheopur news:ऑनलाइन क्लास के व्हाट्सएप ग्रुप में शिक्षक ने डाली अश्लील तस्वीरें, हुआ निलंबित

सभी पर आरोप है कि इन्होंने मिलकर खातों में फर्जी जमा की एंट्रीयां, नगद व चैक व NEFT के घोटाले कर कुल 80 करोड़ से अधिक की संपत्ति का चूना लगाया है। इस रिपोर्ट के आधार पर सभी पर अपराध क्रमांक 386/21 धारा 409 भादवि, इजाफा धारा 420,467,468,471,120 बी भादवि. व अपराध क्रमांक  15/22 धारा 409,420,467,468,471,120बी ताहि. का पंजीबद्ध किया गया है। पुलिस अधीक्षक शिवपुरी, अति. पुलिस अधीक्षक शिवपुरी प्रवीण कुमार भूरिया व एस.डीओपी कोलारस निरंजन सिंह राजपूत की टीम ने मामले में सक्रियता दिखाते हुए इन आरोपियों को धर दबोचा है।
थाना प्रभारी कोलारस निरीक्षक आलोक सिंह भदौरिया को गुप्तचर से मिली सूचना के बाद संस्‍कार सिटी बृंदावन (मथुरा) उ.प्र. से गिरफ्तार किया गया ।

यहां भी देखें- Ujjain News : क्षिप्रा के त्रिवेणी घाट पहुंचे साधु-संत बैठे धरने पर, ये है कारण

 
पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में उसने बताया कि उसके पिता सहकारिता बैंक में सुपरवाइजर के पद पर बदरवास शाखा में पदस्‍थ थे।उनकी मृत्यु हो जाने के बाद अनुकंपा नियुक्ति वर्ष 1997 में वह चपरासी के पद पर जिला सह‍कारी बैंक शाखा रन्‍नौद में नियुक्त हुआ।
बाद में जिला सहकारी बैंक शाखा कोलारस में कैशियर के पद के लिये वर्ष 2010 में शाखा प्रबंधक ने ठहराव प्रस्‍ताव पर पदस्थ हुआ। आरोपी की आईडी वर्ष 2013 में तैयार होने के बाद से ही तत्कालीन शाखा प्रबंधक, आपरेटर व बाद में आये शाखा प्रबंधकों के साथ मिलकर जिला सहकारी बैंक शाखा कोलारस में अपने परिवार एवं परिचितों के खातों में फर्जी जमा राशियों की एंट्रीयां कर उन खातों से NEFT, RGTS एवं चैक के माध्‍यम से घोटाला कर घोटाले की रकम आपस मे बांट ली। 

यहां भी देखें- MP News : शिवराज ने बच्चों को पिलाई “स्वर्ण प्राशन” की दो बूंद, पुष्य नक्षत्र से भी है संबंध

आरोपी ने अपने परिवार के नाम से कोलारस में एक मकान, सिंघडा फार्म कोलारस में प्‍लाट, ग्राम गुनाटोरी तहसील कोलारस में 36 वीघा जमीन ,कोलारस में दाल मील, आटा मील, गुंजारी नदी कोलारस के पास जमीन तथा ग्राम कुसवन में जमीन तथा नई पुरीनी  60-70 बसें तथा ट्रक सोने के जेवरात आदि खरीदे। एक अन्य महिला आरोपी  एवं उसके भाई को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की जाने पर उन्होंने अपने हिस्‍से की घोटाले की राशि से करैरा में प्‍लाट व गुनाटोरी में जमीन करीवन 36 वीघा तथा शिवपुरी में 2 मकान व करैरा में 2 मकान एवं सोने के जेवरात,बस, ट्रक ,कार जीपें एवं मोटर साईकिलें खरीदी होना बताया । सोने के करीवन 650 ग्राम जेवरात को मुथूट गोल्‍ड फायनेंश शिवपुरी में रखकर 20 लाख रूपये का लोन लेना भी बताया गया ।
बरामद संपत्‍ती- मुख्य आरोपी से कोलारस में 2 मकान व एक आटा मिल व प्‍लोट को पूर्व में सहकारिता विभाग द्वारा सील किया गया है तथा महिला आरोपी के भाई से एक XUV 500 महिन्‍द्रा कंपनी की रजि. क्रमांक UP39BK6969, एवं महिला आरोपी से एक स्‍कोर्पियो महिन्‍द्रा कंपनी की रजि. क्रमांक UP39BP6969 बरामद की गई है। इसके अलावा बसें, ट्रक, जमीन मकान ,प्‍लाट,सोना-चांदी के जेवरात एवं अन्‍य बैंको के करीव 30-35 खाते कसाब किताब होने के बाद रिकवरी की जाएगी।
उक्त कार्यवाही मे एसडीओपी कोलारस श्री निरंजन सिंह राजपूत, थाना प्रभारी कोलारस निरी. आलोक सिंह भादौरिया, उनि. शिखा तिवारी, उनि. रूपेश शर्मा, उनि. योगेन्द्र सेंगर, कावा. उनि. रामचंद्र शर्मा, प्रआर. दिलीप राजावत, प्रआर. भूपेन्द्र तोमर, सायबर सेल से प्रआर. देवेन्द्र सेन आर. पुष्पेन्द्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही ।