Shivpuri: शहर में आफत की बारिश, कई घरों में नहीं जले चूल्हे, छतों पर जाकर लोगों ने बचाई अपनी जान

क्षेत्रों में लोगो का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है उनमें शंकर कॉलोनी, महावीर नगर, विष्णु मंदिर रोड नाले किनारे बने मकान, पुरानी शिवपुरी रामपुर दरवाज़ा,मंगल मसाले गली,कमलागंज ,लाल माटी शामिल है।

शिवपुरी,शिवम पाण्डेय। शिवपुरी (Shivpuri) में सोमवार को 24 घंटे से भी अधिक समय से हो रही बारिश नगरवासियों के लिए आफत की बारिश साबित हो रही है। क्योंकि शहर के सारे नाले चार से लेकर पांच फुट ऊपर बहे रहे है। कई जगह तो लोगो ने अपनी जान घर के छत पर जाकर बचाई है। जिन क्षेत्रों में लोगो का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है उनमें शंकर कॉलोनी, महावीर नगर, विष्णु मंदिर रोड नाले किनारे बने मकान, पुरानी शिवपुरी रामपुर दरवाज़ा,मंगल मसाले गली,कमलागंज ,लाल माटी सहित कई क्षेत्र आफत की बारिश से प्रभावित हो रहे है।

यह भी पढ़ें…Ratlam : अवैध शराब बनाने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह के 3 आरोपी पुलिस की गिरफ्त में, 6 फरार

इधर, इस आफत की बारिश में कई व्यापार भी काफी प्रभावित हुआ है। और उनका लाखों रुपये का नुकसान इस बारिश में हो गया। ठंडी सड़क पर मौजूद पारस प्लाईवुड का सामान गोदाम में पानी भरने के चलते खराब हो गया है। तप वहीं लुहारपुरा पुलिया पर मौजूद राज किराना के गोदाम में भी पानी भर गया और यहाँ भी लाखों रुपये का नुकसान बताया गया है। वहीं इस क्षेत्र में शिवशक्ति वालो के यहाँ, नारियल वालो के यहाँ, ओझा चक्की वालो, दिनेश जैन ठाटी वाले और लुहारपुरा में निवासरत लोगो के घर डूबने सहित कई दुकानदारों के घरों में पानी भरने व्यापारियों का काफी नुकसान हुआ है ।

Shivpuri: शहर में आफत की बारिश, कई घरों में नहीं जले चूल्हे, छतों पर जाकर लोगों ने बचाई अपनी जान

थीम रोड पर बनाये जा रहे पुल भी बने परेशानी का कारण
शहर के 13 किलोमीटर की बनाई जा रही थीम रोड को बनाए हुए लगभग एक वर्ष से अधिक समय हो गया। लेकिन इस पर बनाये जा रहे पुल लोगो के लिए बड़ी मुसीबत बनकर साबित हुआ है। क्योंकि शहर के माधव चौक का बड़ा पुल पिछले तीन माह से अधिक समय मे पूर्ण नही हो पाया। वहीं कमलागंज का पुल 6 माह में भी रोड बनाने वाली कंपनी पूर्ण नहीं कर सकी। जिससे पानी की निकासी दोनो जगह ठीक तरीके से नहीं हो पा रही थी। मेडिकल कॉलेज के आगे तो निर्माणाधीन पुल बनने से पहले ही धराशाही हो गया।

Shivpuri: शहर में आफत की बारिश, कई घरों में नहीं जले चूल्हे, छतों पर जाकर लोगों ने बचाई अपनी जान

प्रशासन अचानक से उतरा सड़कों पर
जब 24 घंटे से अधिक समय से बारिस बंद नही हुई तो प्रशासन सड़क पर आ गया और इस बारिस का जायजा लेने लगा। जिसमें जिलाधीश अक्षय कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल, एसडीएम अरविंद वाजपेयी, तहसीलदार, सीएम सहित कई अधिकारी मामले पर नज़र बनाये रहे। हालांकि इस बारिश में किसी भी प्रकार की कोई जनहानि की सूचना अभी तक नहीं है।

यह भी पढ़ें…RTO फेसलेस योजना को भोपाल में जबरदस्त रिस्पांस, पहले ही दिन आंकड़ा शतक पार