तपती गर्मी का असर कलेक्टर पर, जनसुनवाई में पहुंची जनता पर ही भड़के

शिवपुरी, डेस्क रिपोर्ट। शिवपुरी के नगर पालिका क्षेत्र के वार्ड 29 और 31 सहित कई वार्डो में गर्मी शुरू होते ही पानी की भारी किल्लत हो गयी है। इन बस्तियों में घर के हर एक घर में पानी के खाली ड्रम रखा हुआ है जो 25 से 30 रुपए प्रति ड्रम लोगों को पानी खरीदना होता है। कभी कभी तो नगर पालिका का निशुल्क टैंकर ही इन्हे पानी बेचने आता है, जबकि 150 करोड़ खर्च कर जलावर्धन योजना यहां लगभग पूर्ण हो गयी है पर सिस्टम की लापरवाही के चलते उसका लाभ आमजन को नही मिल पा रहा है इसी की शिकायत लेकर मंगलवार को जब वार्डवासी जनसुनवाई में कलेक्ट्रेट पहुंचे तो कलेक्टर ने उनकी शिकायत पर उन्हे ही चिल्लाना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें… शहडोल में पदस्थ उपपंजीयक को एक लाख की रिश्वत लेते EOW रीवा ने पकड़ा

यह सभी शिकायत करने कलेक्ट्रेट पहुंचे लेकिन कलेक्टर चेम्बर में ही बैठे रहे, काफी देर तक जब इन लोगों को कलेक्टर से मिलने अंदर नहीं जाने दिया गया और कलेक्टर भी इनकी समस्या सुनने बाहर नहीं आए तो  महिलाओं ने नारेबाजी शुरू कर दी और कलेक्ट्रेट में ही धरने पर बैठ गए, जैसे ही नारेबाजी की आवाज  कलेक्टर अक्षय सिंह के कानों तक पहुंची वह कड़क तेवर के साथ बाहर आए और शिकायत कर रहे लोगो पर भड़क उठे और जैसे ही उन्होंने देखा कि सोशल मीडिया के पत्रकार उनकी रिकॉर्डिंग कर रहे है तो कलेक्टर ने उनके मोबाइल छीन लिए। हालांकि बाद में वापस भी कर दिए। इन लोगों की पूरी समस्या सुने बिना ही कलेक्टर ने इन्हे जमकर फटकाट लगा दी, कहा देखते है, लेकिन जैसे ही एक शख्स ने पानी की समस्या कलेक्टर को बतानी चाही, कलेक्टर ने चिल्लाते हुए कहा कि अब क्या लिखकर दूँ, कलेक्टर से मिलने महिला पुरुष बच्चों के साथ ही बुजुर्ग भी गए थे लेकिन कलेक्टर का ऐसा रवैया देखकर वह हैरान रह गए, बाद में वह सभी निराश होकर घर लौट आए।