निरीक्षण में खुली आदिम जाति बालिका छात्रावास की पोल, नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने किया औचक निरीक्षण

नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने आदिम जाति बालिका छात्रावास का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान अधीक्षिका यहां मौजूद नहीं थी।

शिवपुरी, शिवम पाण्डेय। खनियांधाना नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने शनिवार को जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित आदिम जनजाति बालिका छात्रावास का औचक निरीक्षण किया जहां मेन गेट पर ताला लगा मिला गार्ड महिला बाजार सामान लेने गई थी। गार्ड महिला की अनुपस्थिति में अंदर मौजूद बालिका द्वारा गेट का ताला खोला गया। बालिका से गार्ड महिला के बारे में पूछा गया तो बालिका ने बताया कि सामान लेने वह बाजार गई हैं।

खनियांधाना में संचालित हो रहे छात्रावास में आदिम जाति बालिका छात्रवास व उत्कृष्ट बालिका छात्रावास को पर्याप्त सुविधाएं नही मिल रहीं हैं। शनिवार को नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने आदिम जाति बालिका छात्रवास व उत्कृष्ट बालिका छात्रावास के निरीक्षण में इसकी पोल उस समय खुल गई, जब छात्रावास का निरीक्षण नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने किया इस दौरान ना तो छात्रावास के मुख्य द्वार पर चौकीदार मौजूद मिला, छात्राएं भी खुद छात्रावास की साफ सफाई करते नजर आई, शासन की मीनू अनुसार तय भोजन भी छात्राओं को उपलब्ध नहीं मिल पा रहा है।

Must Read- फिर धमाल मचाएंगे अल्लू अर्जुन, शुरू की गई Pushpa 2 की शूटिंग, सेट से वायरल हुई तस्वीरें

नगर परिषद उपाध्यक्ष राधा चौहान ने छात्रावास का निरीक्षण किया जहां पर अधिक्षिका नदारद मिली स्टाफ द्वारा अधिक्षिका से शनिवार दोपहर 1 बजे फोन पर बात की गई तो अधिक्षिका ने बताया कि मैं अपने निवास पिछोर में मौजूद हूं। जबपूछा गया कि अधिक्षिका जब अपने घर जाती हैं तो कार्यालय का ताला लगाकर चाबी किसको दे कर जाती हैं तो वहां मौजूद स्टाफ ने बताया कि वह चाबी वह अपने साथ ले जाती हैं। जब खाना का मेनू के बारे में पूछा गया तो स्टाफ ने बताया कि खाने का मेनू अधिक्षिका अपने ऑफिस में ही रखे रहती है। उपाध्यक्ष ने पूछा कि खाने का मेनू दीवार पर लिखा होना चाहिए तो स्टाफ का कहना है कि अधिक्षिका ने नहीं लिखवाया।

और साथ ही उपाध्यक्ष को छात्रावास में प्राथमिक उपचार की किसी भी प्रकार की व्यवस्था दिखाई नहीं दी जो वहां पर होना चाहिए। ऐसे में अगर बच्चियां बीमार होते हैं तो वहां मौजूद स्टाफ ने बताया कि उन्हें उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया जाता है जहां उपचार के बाद दवाई लेकर छात्रावास वापस लाया जाता है। इस पर नगर परिषद उपाध्यक्ष ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि मैं आगे जब भी आऊंगी तो मुझे पूरी व्यवस्था यहां मौजूद चाहिए आप यह बात अधिक्षिका से कह देना‌।

वहां मौजूद स्टाफ ने यह भी बताया कि बच्चियों को एक ही विषय गणित को पढ़ाने के लिए सर आते हैं। नगर परिषद उपाध्यक्ष ने वहां मौजूद स्टाफ से पूछा कि बालिका छात्रावास में पुरुष वर्जित है तो फिर यह सर कैसे पढ़ाने आते हैं तो वहां मौजूद स्टाफ ने बताया कि इसका जवाब अधिक्षिका ही दे सकती हैं। साथ ही छात्रावास में कई अव्यवस्थाएं उजागर हुईं। निरीक्षण के समय छात्रावास अधीक्षिका पुष्पा गुप्ता अनुपस्थित थीं। छात्रावासों में निर्धारित मेनू के अनुसार छात्र-छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण नाश्ता एवं भोजन उपलब्ध भी नही मिल रहा है। छात्रावास में चौकीदार भी सुरक्षा की दृष्टि से उपलब्ध नहीं था।

नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने जब छात्राओं से बातचीत की तो छात्राओं ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से कोई भी व्यवस्था नहीं है साथ ही गेट पर चौकीदारी मौजूद नहीं रहता छात्रावास अधीक्षिका पुष्पा गुप्ता कभी-कभार आकर खानापूर्ति पूरी कर ली जाती है और हमें खाना भी अच्छी तरह से नहीं मिलता है, पीने के पानी के लिए बोर लगा हुआ है। पीने के पानी भरने के लिए पर्याप्त बर्तन की व्यवस्था नहीं मिली तथा छात्रावास में हर जगह अस्वच्छता पाई गई। छात्रावास अधीक्षिका पुष्पा गुप्ता के पास एक नहीं तीन से चार छात्रावासो का प्रभार है। छात्रावास में अव्यवस्थाओं को दृष्टिगत रखते हुए नगर पालिका उपाध्यक्ष राधा चौहान ने छात्राओं की शिक्षा पर विशेष ध्यान देने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है।