चाचा-भतीजे की हत्या पर बवाल, परिजनों ने अंतिम संस्कार रोका, भारी पुलिस बल तैनात

शिवपुरी।

सोमवार को शिवपुरी में हुई  चाचा-भतीजा की हत्या के बाद शहर में तनाव का माहौल है। आज मंगलवार दोपहर को भी अंतिम संस्कार करने के दौरान नया विवाद खड़ा हो गया। राजपूत समाज और परिजन  बंदूक लाइसेंस, आंगनवाड़ी में नौकरी, आर्थिक मदद की मांग पर पर अड़ गया और तबतक अंतिम संस्कार करने से रोक दिया।सूचना मिलते ही कलेक्टर अनुग्रह पी, एसपी राजेश चन्देल गांव आए और पीड़ित परिवार से मिले और आश्वासन दिया, लेकिन वह नही माने। मामले की गंभीरता को देखते हुए यहां भारी पुलिसबल तैनात किया गया है। जाम लगाने ऑटो में शव रखने से पुलिस ने उन्हें रोक दिया। फिलहाल हंगामा जारी है।

        दरअसल, सोमवार सुबह जिला मुख्यालय से 12 किमी दूर देहात थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कोटा में खूनी संघर्ष में एक ही परिवार के चाचा-भतीजा हत्या कर दी गई थी।विवाद नहर को लेकर हुआ था। जिस परिवार के लोगों की हत्या हुई है, वहां शादी थी। सोमवार सुबह ही बहू का ग्रहप्रवेश हुआ था। इसी दौरान दूसरे पक्ष के लोगों ने स्कूल की बाउंड्रीवाल के पीछे से पूरे परिवार पर फायर कर दिए। करीब 10 से 15 मिनट तक पूरा गांव गोलियों की आवाज से गूंजता रहा। घटना के बाद गांव में तनाव की स्थिति है। कोटा गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।वही आज मंगलावर को बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। एसपी राजेश चंदले ने बताया कि शवों को एम्बुलेंस से कोटा गांव तो लाया गया लेकिन कोटा के रास्ते पर सुबह से एंबुलेंस को रोक कर रखा गया है। बंदूक लाइसेंस, आंगनवाड़ी में नौकरी, आर्थिक मदद की मांग पर राजपूत समाज के लोग अड़े रहे। 

         कलेक्टर अनुग्रह पी, एसपी राजेश चन्देल गांव आए और पीड़ित परिवार से मिले। उन्हें मदद का आश्वासन दिया, लेकिन परिजनों ने लिखित में देने कहा। आक्रोशित लोगों ने कहा कि अंतिम संस्कार के पहले जो हुआ वही होगा। मामले की गंभीरता को देखते हुए यहां भारी पुलिसबल तैनात किया गया है। जाम लगाने ऑटो में शव रखने से पुलिस ने उन्हें रोक दिया। एंबुलेंस से शव उताकर ऑटो रिक्शा में रखने पर भड़के युवाओं को एएसपी गजेंद्र कंवर, एसडीओपी पिछोड़ देंव्रदे कुशवाह ने रोक दिया। इलाके में लगातार हंगामा जारी है। पुलिस परिजनों ने बार-बार शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए मनाने की कोशिश कर रही है, लेकिन आक्रोशित लोग बिना लिखे पुलिस अधिकारियों की कोई भी बात मानने को तैयार नहीं है।

इनको लगी गोली 

इस गोली काण्ड में दीपक ठाकुर उम्र 27 साल पुत्र पहलवान सिंह निवासी कोटा, प्रेम ठाकुर की मौत गोली लगने से हो गई हैंं। वही इस गोली काण्ड में मुलायम सिंह पुत्र बादाम सिंह उम्र 60 वर्ष निवासी कोटा,सुल्तान सिंह पुत्र बादाम सिंह उम्र 60 साल,पवन सिंह उम्र 36 साल पुत्र मुलायम सिंह,साहब सिंह उम्र 47 पुत्र राजसिंह उम्र 47 साल और पहलवान सिंह उम्र 50 साल पुत्र बादम सिंह के घायल हो गए है। इन सभी के शरीर में गोलियो के छरेें लग गए हैं। इस घटनाक्रम के बाद गांव और अस्पताल में भारी पुलिस बल तैनात किया है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here