बिना धोई खाई सब्जियों ने मासूम के दिमाग में बनाई आधा किलो की गांठ

दूषित सब्जियों और फलों को जब बिना धोए सीधे खा लिया जाता है,तो सब्जियों के कारण एक प्रकार का कीड़ा शरीर में चला जाता है। ऐसे कीड़े कोशिकाओं को तोड़कर उनकी गांठ बना देते हैं

डेस्क रिपोर्ट। बिना धोए फल और सब्जियां खाना महंगा पड़ सकता है शिवपुरी कोलारस के रहने वाले सात साल के एक मासूम को सिर में आधा किलो की गांठ थी। जिसे ऑपरेशन कर निकाला गया है। चिकित्सकों की माने तो सब्जियों के कीड़ों की वजह से ये गांठ बनी थी। बच्चे के सिर का जटिल ऑपरेशन करना पड़ा। सात साल का यह बच्चा गणेश, कोलारस गांव शिवपुरी का रहने वाला है। पिछले एक महीने से उसे सिर दर्द और उल्टी होने की शिकायत थी। कई अस्पतालों के चक्कर लगा लगाकर परिजन थक गए लेकिन बीमारी पकड़ में नहीं आ रही थी। इसके अलावा उसे बार-बार दौरे भी पड़ते थे।

यह भी पढ़े.. हाइवा में पकड़ी गई शराब, पंचायत चुनाव के पहले अवैध कारोबारियों द्वारा शराब स्टाक करना शुरू

ऐसे में उसे परिजन कोटा के झालावाड़ रोड स्थित एक निजी न्यूरो हॉस्पिटल में लेकर पहुंचे। जहां बच्चे की एमआरआई करवाई गई। जिसमें बच्चे के सिर में दाहिनी तरफ एक बड़ी गांठ नजर आई, डॉक्टर ने पूरी स्थिति से परिजनों को अवगत करवाया। ऑपरेशन का निर्णय लिया। एंडोस्कोपी की सहायता से मरीज को ऑपरेशन किया गया। उसके सिर से आधा किलो से ज्यादा वजनी गांठ निकली। डॉक्टर्स के अनुसार सिर में गांठ होने पर उसके किसी भी समय फटने का डर बना रहता है। जिसके चलते बच्चे को लकवा हो सकता था। वह कोमा में भी जा सकता था। इसके अलावा उसकी मौत भी हो सकती थी। ऐसे में समय रहते ऑपरेट होने से मरीज अब सामान्य है और आगामी जीवन ठीक से जी सकता है।

यह भी पढ़े.. Recruitment 2021: कई पदों पर निकली वैकेंसी, वेतन 1 लाख 40 हजार के पार, जाने डिटेल्स

चिकित्सकों ने इस बीमारी को टेप वार्म इन्फेक्शन बताया। जानकारों की माने तो दूषित सब्जियों और फलों को जब बिना धोए सीधे खा लिया जाता है,तो सब्जियों के कारण एक प्रकार का कीड़ा शरीर में चला जाता है। ऐसे कीड़े कोशिकाओं को तोड़कर उनकी गांठ बना देते हैं। जो रक्त के जरिए शरीर के अन्य भागों में पहुंचकर नुकसान पहुंचाता है। यह 70 प्रतिशत लीवर, 20 प्रतिशत ब्रेन और 5 से 10 प्रतिशत लंग्स को प्रभावित करता है। ऐसे में सब्जियों को अच्छी तरह धोकर ही और उबालकर ही खाना चाहिए। इस कीड़े की वजह से बीमारी बड़ों की तुलना में 10 साल के बच्चों तक में ज्यादा होती है। फिलहाल आपरेशन के बाद मासूम की हालत में सुधार है।