श्रीराम मंदिर की आधारशिला रखे जाने पर हर्षोल्लास, दीप जलाकर खुशी जताई

सीधी,पंकज सिंह

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के आह्वान पर यूथ कांग्रेस के प्रदेश सचिव देवेन्द्र सिंह दादू द्वारा ग्राम तेदुहा में दीप प्रज्वलन कार्यक्रम आयोजित किया गया। यहांं सबसे पहले भगवान श्री राम और हनुमान जी की पूजा अर्चना की गई, फिर दीपोत्सव मनाया गया। दीपक जला कर अंत में हनुमान चालीसा का पाठ एवं प्रसाद वितरण हुआ।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री ज्ञान सिंह चौहान एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता युगल बिहारी सिंह पूर्व सरपंच, विशिष्ट अतिथि अभिमान प्रजापति पूर्व जनपद सदस्य, जगत बहादुर सिंह,अतिथि आई टी एवं सोशल मीडिया सेल जिला अध्यक्ष पंकज सिंह, कार्यक्रम के संयोजक नागेश्वर सिंह एवं अन्य उपस्थिति मनोज सिंह, भुपेंद्र सिंह, पंकज, चंदन सिंह, माला सिंह, सरतेंदु तिवारी, अर्पित द्विवेदी, बैजनाथ सेन, अभिमान प्रजापति, किशन साहू,उदयराज प्रजापति,संगम,शिवेंद्र,रज्जू,शिव बहादुर ,अजय सिंह,रजत सिंस,अमित,गौरव,अनुज सिंह,आशीष सिह,अमन,किशन,रामसुमन,रंजीत प्रजापति,शिवेंद्र सिंघ,रोहित सिंह,सूरज सिंह,गगन सिंह की रही।

इस अवसर पर ज्ञान सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि आज बड़े गौरव का दिन है जिसका इंतजार कई वर्षो से था वो घड़ी आ गई है। ईश्वर की कृपा से सभी हिंदुस्तानियों का सीना चौड़ा हुआ है। लेकिन इस बात का दुख है की कुछ लोग है कि इस मसले को सुप्रीम कोर्ट तक ले गए। फिर भी हमेशा कहा गया है सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं हो सकता, सत्य की जीत हुई है। जहां भगवान राम की बात है वहा सोचने वाली बात नहीं आज पूरा देश इलेक्ट्रानिक एवं सोशल मीडिया के माध्यम से देख रहा है। श्री सिंह ने कहा कि अयोध्या में जो राम मंदिर बन रहा है बड़ा भव्य बन रहा है बनने के बाद भगवान राम लला के दर्शन करने अयोध्या जरूर जाऊंगा।

इस मौके पर देवेंद्र सिंह दादू ने कहा की सहनशीलता व धैर्य भगवान राम का प्रमुख गुण है। अयोध्या का राजा होते हुए भी श्री राम ने संन्यासी की तरह ही अपना जीवन व्यापन किया। यह उनकी सहनशीलता को दर्शाता है। भगवान राम ने विषम परिस्थितियों में भी स्थिति पर नियंत्रण रख सफलता प्राप्त की उन्होंने हमेशा वेदों और मर्यादा का पालन किया। स्वयं के सुखों से समझौता कर उन्होंने न्याय और सत्य का साथ दिया औऱ हम सभी को भी उनके आचरण से सीख लेनी चाहिए।